एड्स से भी ज्यादा खतरनाक है ये बीमारी…शरीर में दिखे ऐसे बदलाव तो तुरंत डॉक्टर के पास जाएं

 ऐसे कई लोग हैं जो बदलते लाइफस्टाइल के साथ ही अपनी सेहत का ध्यान नहीं रख पाते हैं, और ऐसे में उन्हें गंभीर बीमारियों का सामना करना पड़ता है। इन्हीं बीमारियों में से एक ऐसी बीमारी के बारे में हम आपको बता रहे हैं जो सही मायने में AIDS जैसी भयानक बीमारी से भी खतरनाक है। WHO की रिसर्च के मुताबिक वैश्विक स्तर पर एड्स से भी ज्यादा जानें हेपेटाइटिस B के कारण जाती हैं।

यह वायरस बॉडी में इन्फेक्टेड ब्लड के ट्रांसफर होने या इंफेक्टेड पार्टनर के साथ इंटरकोर्स करने से फैलती है। रिसर्च के मुताबिक, इसी वजह से लिवर में इन्फेक्शन फैल जाता है। साथ ही लिवर फेलियर या कैंसर जैसी स्थिति भी बनने लगती है। इस बीमारी को बेहद खतरनाक माना जाता है। यह ऐसी बीमारी है जो बॉडी में HBV वायरस फैलने के कारण होती है।

इस बीमारी को अगर आपको समझना है तो सबसे पहले इस बीमारी के संकेत समझ लीजिए। यूरिन का रंग ब्राउन या ऑरेंज हो जाना, आंखों का पीला होना , लंबे समय तक बीमार रहना, लगातार कई महीनों तक थकान और कमजोरी बने रहना, जी मिचलाना और बार-बार उल्टी आना। अगर आपको भी ये संकेत नजर आते हैं तो तुरंत डॉक्टर के पास जाएं।

क्या हेपेटाईटिस बी का इलाज हो सकता है ?- अधिकतर वयस्क लोग, गंभीर संक्रमण से बिना किसी इलाज के ठीक हो जाते हैं।जो वयस्क, बच्चे और नवजात शिशु जिनको हेपेटाईटिस बी का संक्रमण होता है, उनके लिए वर्तमान समय में तो कोई इलाज उपलब्ध नहीं। लेकिन अच्छी बात यह है कि, ऐसे इलाज उपलब्ध हैं, जिनसे लीवर की बीमारी की गति वायरस की प्रगति को धीमा कर, धीमी की जा सकती है। जो हेपेटाईटिस बी के वायरस कम संख्या में पैदा होंगे तो लीवर को कम नुकसान होगा। कभी-कभी इन दवाइयों से वायरस को खत्म भी किया जा सकता है, हालांकि सामान्य तौर पर ऐसा नहीं होता।

Facebook Comments