जम्मू कश्मीर के पुलवामा में उरी से भी बड़ा आतंकी हमला, 23 जवान शहीद, 47 घायल

एक बार फिर से जम्मु कश्मीर में आतंकवादियों ने सुरक्षाबलों को निशाना बनाया है। पुलवामा में अवंतीपोरा के गोरीपोरा इलाके में आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद ने सुरक्षाबलों के काफिले पर आत्मघाती हमला किया। इस आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 23 जवान शहीद हो गए, जबकि 47 जवान घायल हो गए। घायल जवानों में 18 की हालत बेहद गंभीर बनी हुई है। काफ लंबे वक्त बाद आतंकवादियों ने आत्मघाती हमले से सुरक्षाबलों पर इतने बड़े हमले को अंजाम दिया है।

घायल जवानों को पास के ही अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इलाके में तलाशी अभियान शुरू कर दिया गया है। खबरों के अनुसार सीआरपीएफ के इस काफिले में 2500 से भी ज़्यादा जवान दर्जनभर गाड़ियों में सवार थे। सुरक्षाबलों की दो गाड़ियों को आतंकियों ने अपना निशाना बनाया। ये हमला उरी से भी ज़्यादा खतरनाक है। आपको बता दें कि उरी हमले में 19 जवान शहीद हुए थे।

सुरक्षाबलों का ये काफिला श्रीनगर-जम्मु हाईवे से गुज़र रहा था। आपको बता दें कि कश्मीर घाटी को देश के अन्य हिस्सों से जोड़ने वाला ये इकलौता हाइवे है। भारी बर्फबारी के कारण कई दिनों से ये रास्ता बंद था। 13 फरवरी को ही इस हाइवे पर दोबारा यातायात शुरू हुआ था। खबरों के अनुसार दोपहर लगभग 3.20 बजे इस आत्मघाती हमले को आतंकियों द्वारा अंजाम दिया गया था। धमाके के बाद हाइवे पर यातायात रोक दिया गया है।

आपको बता दें कि कुख्ताय आतंकी संगठन जैश ए मुहम्मद ने इस हमले की ज़िम्मेदारी ली है। जैश के प्रवक्ता ने एक बयान जारी कर कहा कि इस हमले में सुरक्षाबलों के दर्जनों वाहनों को तबाह कर दिया गया है। साथ ही जैश के प्रवक्ता मुहम्मद हसन ने अपने टेली स्टेटमेंट में कहा कि ये फिदायीन हमला था। जिस आतंकी ने इस हमले को अंजाम दिया है वो पुलवामा के गुंडई बाग इलाके का रहने वाला है। उसका नाम आदिल अहमद उर्फ वकास कमांडो है।

Facebook Comments