जानिए कपड़े के साथ ऐसा क्या लगाया जाता है…बुलेटप्रूफ जैकेट पर क्यों नहीं होता किसी गोली का असर

बुलेटप्रूफ जैकेट के बारे में आप तो आपने सुना ही होगा, यह जैकेट सेना के जवानों को सरकार द्वारा मुहैया कराई जाती है जिससे कि उनके जान की सुरक्षा हो सके तथा आधुनिक समाज में सैनिकों की सुरक्षा के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला यह सबसे महत्वपूर्ण भी बन चुका है।

बुलेटप्रूफ जैकेट एक ऐसी जैकेट है जिसके आर-पार बंदूक की गोली नहीं जा सकती है तथा इस वजह से इसे पहनने के बाद आदमी के ऊपर बंदूक की गोली का भी कोई असर नहीं होता है तो आईये जानते हैं कि यह जैकेट कैसे तैयार की जाती है तथा क्यों इसपर गोली का असर नहीं होता है। बुलेट प्रूफ जैकेट को बनाने के लिए सबसे पहले इसके लिए जरूरी कपड़ों का भी निर्माण किया जाता है तथा इसके लिए फाइबर या फिलामेंट का उत्पादन किया जाता है जो कि वजन में काफी हल्का लेकिन बहुत ही मजबूत होता है।बुलेटप्रूफ जैकेट में इस्तेमाल किये जाने वाले सबसे प्रसिद्ध है पदार्थ का नाम केवलर है जो कि एक पैरा- रैमिड सिंथेटिक फाइबर होता है। केवलर एक तरल रासायनिक मिश्रण से एक ठोस धागा कताई द्वारा उत्पादित किया जाता है।

इसके अलावा उस जैकेट में एक और फाइबर डाईनीमा का भी इस्तेमाल किया जाता है जिसे पॉलीथिन बेस से बनाया जाता है। यह दोनों ही पदार्थ बहुत ही मजबूत होने के साथ-साथ काफी हल्के होते हैं।

बुलेट प्रूफ जैकेट में दो परते होती हैं जिसमें सबसे ऊपरी परत को सेरैमिक तथा दूसरी परत को बैलिस्टिक परत कहा जाता है। इन दोनों परतों को ही मिला कर जैकेट तैयार की जाती है। जब कोई बंदूक की गोली बुलेट प्रूफ जैकेट से टकराती है तो वह सबसे पहले वह ऊपर लगे सेरैमिक परत से टकराती है और उसके बाद गोली का आगे का नुकीला हिस्सा टूट जाता है और गोली छोटे-छोटे टुकड़ों में जैकेट पर फैल जाती है। इस वजह से बंदूक की गोली का फोर्स भी और भेदन क्षमता कम हो जाती है। इसके बाद गोली से निकलने वाले ऊर्जा को बैलेस्टिक परत सोख लेती है तथा बुलेट प्रूफ जैकेट पहने व्यक्ति को काफी कम नुकसान होता है। हालांकि गोली लगने से व्यक्ति को थोड़ा झटका लगता है।

Facebook Comments