जानिए क्या है खूबी, कौन से अजूबे हैं शामिल…जानिए क्या है खूबी, कौन से अजूबे हैं शामिल

 हर इंसान की ख्वाहिश होती है कि वह दुनिया कि सैर पर जाये, दुनिया के 7 अजूबों को फ़ोटो, वीडियो के इतर करीब से देखे। आपकी इसी ख्वाहिश को पूरा करने के लिए पिछले साल जून में साउथ दिल्ली म्युनिसिपल कारपोरेशन SDMC ने दिल्ली में 7 अजूबों के रेप्लिका का वंडर्स ऑफ द वर्ल्ड पार्क को बनाने का निर्णय लिया। ताकि, हम और आप दिल्ली में रहकर ही दुनिया के इन 7 अजूबों के दर्शन कर सकें।

दिल्ली के सारे काले खां और इन्द्रप्रस्थ पार्क के बीच एक और पार्क है संजय गाँधी पार्क, जहां वंडर्स ऑफ द वर्ल्ड पार्क बनाया गया है। खबर है कि इसका उद्घाटन फरवरी के दूसरे हफ्ते में हो सकता है। उम्मीद की जा रही है कि यह पार्क जल्द ही दिल्ली के बड़े टूरिस्ट स्पॉट के रूप में पहचाना जाएगा। इसकी सबसे बड़ी वजह यह है कि इस पार्क में आपको एक साथ दुनिया के 7 अजूबे देखने को मिलेंगे। साउथ-ईस्ट दिल्ली के इस पार्क में ताज महल, ग्रेट पिरामिड, एफिल टावर, पीसा की झुकी हुई मीनार, रियो डी जनेरियो का क्राइस्ट रीडीमर, रोम का कोलोसियम और न्यू यॉर्क की स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी देखने को मिलेगें। इस पार्क में दुनिया के इन प्रसिद्ध जगहों का रेप्लिका बनाया गया है।

साउथ दिल्ली म्युनिसिपल कारपोरेशन के हॉर्टिकल्चर डिपार्टमेंट के डायरेक्टर आलोक कुमार ने बताया कि फिलहाल यह पार्क पूरी तरह से बनकर तैयार है। इसमें सिर्फ लैंडस्केपिंग और रास्ते बनाने का काम किया जा रहा है और एक बार यह काम हो जाए उसके बाद पूरे पार्क में बेहद खूबसूरत लाइटें लगाई जाएंगी जिससे पार्क की खूबसूरती कई गुना बढ़ जाएगी। वर्ल्डस ऑफ़ वंडर पार्क के निर्माण में करीब 7।5 करोड़ रुपये आयी है। पार्क में एंट्री के लिए फीस का प्रावधान किया गया है।SDMC के अधिकारियों की मानें तो पार्क में खाने-पीने की व्यवस्था भी की जाएगी, साथ ही पार्किंग की सुविधा और बच्चों के लिए खेलने की जगह भी यहां पर बनाई जाएगी।

वंडर्स ऑफ द वर्ल्ड पार्क में बने हर रेप्लिका के सामने बोर्ड भी लगाया गया है जिस पर ओरिजिनल जगह के बारे में जानकारी देने के साथ-साथ यह भी बताया जाएगा कि इस इमारत को बनाने में किस तरह के स्क्रैप का इस्तेमाल किया गया है। पार्क में बने रेप्लिका को स्क्रैप यानी कबाड़ से तैयार किया गया।

Facebook Comments