तो बैंक फ्रॉड में कभी नहीं फंसेंगे…आपने अगर इन जानकारियों को अपना लिया

देश का सबसे बड़ा सरकारी बैंक स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया (एसबीआई) ने अपने ग्राहकों को साइबर धोखाधड़ी से अलर्ट रहने को कहा है। बैंक ने अपने ग्राहकों को नए तरीके से हो रही ऑनलाइन चोरी को लेकर अलर्ट जारी किया है। हाल के दिनों में इस ऑनलाइन फ्रॉड के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी हुई है। एसबीआई ने अपनी वेबसाइट पर जानकारी दते हुए ग्राहकों को खास तरह की फिशिंग, ब्रांड स्पूफिंग व पॉपअप विंडो से बचने की सलाह दी है।

देश के इस अग्रणी बैंक ने अपनी वेबसाइट पर फिशिंग के बारे में विस्तृत जानकारी दी है। जिसके मुताबिक फिशिंग एक नार्मल किस्म की इंटरनेट चोरी है, जिसकी मदद से हैकर्स खाते की गोपनीय जानकारी, व्यक्तिगत पहचान का ब्योरा चुरा लेते हैं। इसी जानकारी की मदद से हैकर्स खाते से बिना आपकी जानकारी के पैसे पार कर देते हैं।

यह ब्रांड स्पूफिंग के नाम से भी जाना जाता है। यदि आप कभी भी ऐसा ई-मेल प्राप्त करते हैं, जिस पर आपको संदेह हो तो इसका उत्तर न दें या दिए गए लिंक पर क्लिक भी न करें। इसे डिलीट कर दें। कोई भी संदेहजनक ई-मेल जिसने एसबीआई के नाम का उपयोग किया हो के उसके बारे में आप उसी समय ही report।phishing@sbi।co।in। पर रिपोर्ट कर सकते हैं।

प्रतीकात्मक तस्वीर

पॉपअप विंडो/विज्ञापन-पॉप-अप वे विज्ञापन हैं जो एक अलग ब्राउज़र विंडो में ‘पॉप अप’ होते हैं। जब आप इस प्रकार के किसी भी पॉप-अप पर ते हैं, यह भी संभव है कि आप ‘स्पाईवेयर’ या ‘एडवेयर’ भी डाउनलोड कर रहे हैं। धोखेबाज एक आटोमेटिक सिस्टम या वास्तविक व्यक्ति के माध्यम से किसी भी नंबर पर फोन करते हैं और किसी बैंक/वित्तीय कंपनी की तरफ से कॉल करने का दावा करते हुए आपको आपके खाते में कुछ समस्या होने का कारण बताते हुए, बैंक खाता, कार्ड ब्यौरा आदि से संबंधित जानकारी अपडेट करने के लिए कहते हैं या यह भी कह सकते हैं कि उन्होने अपने सिस्टम को अपग्रेड किया है।

अक्सर आपकी ईमेल आईडी पर ऐसे ई मेल आते होंगे। ईमेल पर ते ही एक हाइपरलिंक खुलता है और एक फेक वेबसाइट खुलती है। ये डुप्लीकेट वेबसाइट का इंटरफ़ेस बिल्कुल असली वेबसाइट की तरह दिखती है। इसमें आपसे आपकी गोपनीय जानकारी, लॉग इन आईडी, पासवर्ड, बैंक अकाउंट नंबर, पिन कोड आदि मांगा जाता है। लोगों को इनाम का लालच दिया जाता है। जैसे ही आप सबमिट बटन पर ते है। हैकर्स आपकी जानकारी को एक्सेस कर लेते हैं। इस तरह हैकर बिना आपकी जानकारी लगे अकाउंट में सेंध लगा जाता है।

इस प्रकार की ऑनलाइन धोखाधड़ी से बचने के लिए थोड़ी सी सतर्कता आपको बचा सकती है। ध्यान रखें कि भूल से भी अपने खाते से जुड़ी गोपनीय जानकारी किसी को न दें। किसी भी ऐसी लिंक पर क्लिक न करें जो किसी अनजान सोर्स से ई-मेल के माध्यम से आया हो। इंटरनेट इस्तेमाल करते समय कभी भी किसी पॉप-अप विंडो के रूप में आने वाले पेज पर कोई भी जानकारी न दें। किसी को फोन पर या ईमेल पर अपने खाते से, क्रेडिट कार्ड या डेबिड कार्ड से संबंधित जानकारी न दें। फिशिंग से बचने के लिए हमेशा एड्रेस बार में ठीक यूआरएल टाइप करके साइट पर लॉगऑन करें।

Facebook Comments