दूसरे दिन प्रियंका गांधी ईडी दफ्तर नहीं आईं…अपने ही जवाबों से उलझे राॅबर्ट वाड्रा

एसपी मित्तल

7 फरवरी को दिल्ली में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के दफ्तर में लगातार दूसरे दिन भी राॅबर्ट वाड्रा से मनी लाॅड्रिंग के केस में पूछताछ होती रही। राॅबर्ट वाड्रा कांगे्रस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के जीजा तथा महासचिव प्रियंका गांधी के पति हैं, इसलिए पूछताछ की कार्यवाही मीडिया में सुर्खियां बनी हुई हैं। 6 फरवरी को राॅबर्ट वाड्रा से सायं 4 बजे से रात 10 बजे तक पूछताछ हुई।

पहले दिन पत्नी प्रियंका गांधी अपने पति को ईडी दफ्तर तक छोडने आई थीं, लेकिन 7 फरवरी को राॅबर्ट वाड्रा बिना सरकारी तामझाम के ही ईडी दफ्तर आ गए। मालूम हो कि गांधी परिवार की सदस्य होने के नाते प्रियंका गांधी को भी एसपीजी की सुरक्षा और सुविधा मिली हुई है। देश में एसपीजी की सुरक्षा प्रधानमंत्री और गांधी परिवार (श्रीमती सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी) को ही मिली हुई है। 6 फरवरी की पूछताछ में ईडी ने सिर्फ सवालों को रखा और राॅबर्ट वाड्रा से जवाब मांगे।

लेकिन 7 फरवरी को ईडी के अधिकारियों ने सवालों के साथ दस्तावेज भी दिखाएं। ये दस्तावेज लंदन में सम्पत्त्यिों की खरीद से जुड़े थे, जो संजय भंडारी, मनोज अरोड़ा आदि से संबंधों को लेकर थे। दस्तावेजों को देख कर कई बार राॅबर्ट वाड्रा उलझ गए, क्योंकि 6 फरवरी को जो जवाब दिए थे वो दस्तावेज देखने के बाद गलत प्रतीत हो रहे थे। ईडी ने जो दस्तावेज दिखाए उसकी कल्पना राॅबर्ट वाड्रा ने भी नहीं की थी।

हालांकि 6 फरवरी को राॅबर्ट वाड्रा ने साफ कहा था कि लंदन में उनके नाम कोई सम्पत्ति नहीं हैं। लेकिन 7 फरवरी को दस्तावेज दिखा कर ईडी ने दर्शा दिया कि वाड्रा लंदन की सम्पत्तियों से जुड़े हुए हैं। दस्तावेज दिखाने के बाद वाड्रा का जो रुख सामने आया, उससे ईडी के अधिकारी भी उत्साहित हैं। अधिकारियों का मानना है कि अब वाड्रा के खिलाफ कार्यवाही करना आसान होगा। वाड्रा से पूछताछ आगे भी जारी रहेगी हालांकि दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने 16 फरवरी तक वाड्रा की गिरफ्तारी पर रोक लगा रखी है।

12 फरवरी को जयपुर में पेश होना है

राॅबर्ट वाड्रा को 16 फरवरी को जयपुर में ईडी के दफ्तर में पेश होना है। राजस्थान के कोलायत क्षेत्र में 275 बीघा जमीन खरीदने में भी राॅबर्ट वाड्रा की कंपनी स्टार लाइट हाॅस्पिलिटी की भूमिका सामने आई है। जयपुर में भी वाड्रा को हाईकोर्ट के दिशा निर्देशों के अनुरूप पेश होना है। आरोप है कि वाड्रा की जो कंपनी मात्र एक लाख रुपए की थी वो यूपीए की सरकार में तीन सौ करोड़ रुपए की होगई। कंपनी की ओर से राजस्थान और हरियाणा में सस्ती कीमत पर किसानों की जमीने खरीदी जो बाद में कांगे्रस सरकारों की मेहरबानी से करोड़ों रुपए में बिक गई।

चौकीदार चोर है का जवाब?

लोकसभा चुनाव से पहले जिस तरह राॅबर्ट वाड्रा से पूछताछ हो रही है, उसे राजनीतिक क्षेत्रों में चैकीदार चोर है का जवाब माना जा रहा है। हालांकि लंदन में सम्पत्तियों की खरीद की और राजस्थान हरियाणा में जमीनों के मामले पुराने हैं, लेकिन केन्द्र सरकार सीधे गांधी परिवार पर हमला नहीं करना चाहती थी। लेकिन जब से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल विमान सौदे में प्रधानमंत्री को चोर कहना शुरू किया, तब से ही राॅबर्ट वाड्रा के खिलाफ कार्यवाही शुरू हो गई है। गांधी परिवार में राॅबर्ट वाड्रा सबसे कमजोर कड़ी है और उसी पर ईडी ने हमला किया है। 6 फरवरी को प्रियंका गांधी ने सायं चार बजे पति राॅबर्ट वाड्रा को ईडी दफ्तर छोड़ा और अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के दफ्तर में आ गई। दफ्तर पहुंचते ही प्रियंका ने पार्टी के महासचिव का काम काज शुरू कर दिया।

Facebook Comments