नाक में नली डालकर जबरन खिलाया गया खाना…भूख हड़ताल पर बैठे भारतीयों पर ढ़हाया गया जुल्म

भूख हड़ताल कर रहे 11 में से 6 लोगों को जनवरी के मध्य में एक संघीय न्यायाधीश के आदेशों के तहत जबरदस्ती खाना खिलाया गया। जिन लोगों को भोजन खिलाया गया है वे लगभग दो सप्ताह से भूख हड़ताल पर थे। अधिकारियों ने बताया कि 11 लोगों में से दो लोगों ने 30 जनवरी को अमेरिका के टेक्सास में अपनी भूख हड़ताल शुरू की।

अमेरिका में आव्रजन अधिकारियों ने भूख हड़ताल पर बैठे कई भारतीयों समेत कम से कम 6 अप्रवासी बंदियों को नाक में नली डालकर जबरदस्ती खाना खिलाया है। दरअसल, अमेरिका के टेक्सास में एक केंद्र सरकार के हालातों के विरोध में इन बंदियों ने भूख हड़ताल की थी। भारतीय-अमेरिकी समूहों ने इसे मानवाधिकारों का उल्लंघन बताया है। अधिकारियों ने बताया कि आव्रजन और सीमा शुल्क प्रवर्तन ने एक बयान में कहा है कि एल पासो में 11 बंदियों ने खाना खाने से मना कर दिया था और देशभर में विभिन्न आईसीई नजरबंदी केन्द्रों पर चार अन्य लोग भी भूख हड़ताल पर चले गए थे।

टेक्सास में दो बंदियों की वकील रूबी कौर ने कहा कि उनके मुवक्किल भारतीय अप्रवासी है जो लगभग 6 महीने पहले दक्षिणी सीमा से अमेरिका में आए थे। कौर ने बताया, उन्हें नाक में नली डालकर तरल पदार्थ दिए गए। यह बेहद ही दर्दनाक है और उनकी इच्छा के खिलाफ है। आईसीई की प्रवक्ता ने इन आरोपों पर सीधी प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं की है।

बता दें कि हाल ही में अमेरिका में करीब 600 स्टूडेंट्स को इमीग्रेशन नियमों की अनदेखी करने के चलते गिरफ्तार किया गया था। इन छात्रों पर इमिग्रेशन नियमों की अनदेखी कर फर्जी तरीके से यूनिवर्सिटी में एडमिशन लेने के आरोप हैं। अमेरिका में पिछले कुछ समय से स्‍टूडेंट वीजा का गलत प्रयोग करने वाले रैकेट्स के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है। इसी के तहत इन सभी लोगों को गिरफ्तार किया गया। अमेरिकन तेलुगू एसोसिएशन ने भी अपने फेसबुक पेज पर इसकी जानकारी दी है। इसमें कहा गया है कि गलत वीजा के चलते कई लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

अमेरिकी अधिकारियों के मुताबिक, अमेरिका में फर्जी वीजा पर रह रहे स्टूडेंट्स को पकड़ने के लिए फार्मिगंटन नाम की एक फर्जी यूनिवर्सिटी बनाई गई। इसके बाद जिन लोगों ने यहां एडमिशन लिए उनके वीजा की सही तरीके से जांच की गई। इसी दौरान सैकड़ों की संख्या में फर्जी वीजा पर रह रहे छात्र पकड़े गए। 600 से ज्यादा छात्रों को उचित दस्तावेजों के बिना रहने में मदद करने के लिए 8 लोगों को पकड़ा गया है ।

Facebook Comments