बड़ी खबर : चुनाव से पहले कश्मीर मुद्दे को हवा देने की कोशिश में पाकिस्तान

 देश में कुछ ही समय बाद लोकसभा चुनाव होने हैं, लेकिन चुनाव से ठीक पहले पाकिस्तान ने एक बार फिर से देश के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप की कोशिश की है। पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने अलगाववादी नेता मीरवाइज उमर फारूक से फोन पर बात की है। जानकारी के अनुसार हुर्रियत नेता मीरवाइज के साथ फोन पर बातचीत के दौरान कश्मीर के मुद्दों को लेकर पाकिस्तान की सरकार ने क्या कदम उठाए हैं उसपर चर्चा की गई। पाकिस्तान द्वारा जिस तरह से मीरवाइज से फोन पर बात की गई है उसके बाद सूत्रों का कहना है कि केंद्र सरकार ने इस पर तीखी प्रतिक्रिया दी है।

सूत्रों की मानें तो पाकिस्तान की ओर से इस कदम के बाद भारत ने अपनी तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि यह पाकिस्तान का दोहरा रवैया है, वह भारत के साथ संबंधों को लेकर दोहरा रवैया अपना रहा है। पाकिस्तान का यह कदम दोनों देशों के बीच बातचीत को पीछे ले जाने वाला कदम बताया है। सरकार की ओर से कहा गया है कि पाकिस्तान भारत को लेकर अपना जो रुख दुनिया के सामने रख रहा है उसके बिल्कुल इतर यह कदम उठाया गया है।

वहीं पाकिस्तान के विदेश विभाग की ओर से कहा गया है कि पाक विदेश मंत्री कुरैशी ने मीरवाइज से फोन पर बातचीत के दौरान पाकिस्तान द्वारा कश्मीर मुद्दे को हाइलाइट करने की दिशा में उठाए गए कदम पर चर्चा की। इस बातचीत के दौरान कुरैशी ने मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय की और से पिछले वर्ष जून माह में जारी की गई रिपोर्ट का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि इस रिपोर्ट और यूके की संसद में पेश की गई रिपोर्ट पर जांच होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि भारत को जांच आयोग की अनुमति देनी चाहिए।

Facebook Comments