लंबे समय से कर्ज में डूबी एयरलाइन Jet Airways के भविष्‍य पर संकट के बादल मंडरा रहे

लंबे समय से कर्ज में डूबी एयरलाइन Jet Airways के भविष्‍य पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं. एक वक्‍त में सबसे मजबूत एयरलाइन जेट एयरवेज ने 18 अप्रैल तक के लिए इंटरनेशनल उड़ानों को रद्द कर दिया है. स्थिति यह हो गई है कि पायलटों को सैलरी नहीं मिल रही और कर्जदाता भी एयरलाइन को उबारने के लिए फंड देने से संकोच कर रहे हैं. 
हालात ये हैं कि 2002 में देश की सबसे बड़ी घरेलू एयरलाइन बनने वाली जेट एयरवेज की विमान सेवा किसी भी वक्‍त ठप हो सकती है. लेकिन सवाल है कि 90 के दशक की चर्चित एयरलाइन जेट एयरवेज की यह दयनीय हालत क्‍यों हुई है. आज हम इस रिपोर्ट में जेट एयरवेज की ऊंची उड़ान से क्रैश लैंडिंग तक की कहानी बताएंगे.
साल 1993 में एक ट्रेवल एजेंसी चलाने वाले शख्‍स नरेश गोयल ने दो बोइंग 737 के साथ जेट एयरवेज की शुरुआत की. देश की पहली प्राइवेट एयरलाइन जेट एयरवेज का 
उद्घाटन जेआरडी टाटा ने किया. यह घटना साधारण नहीं थी. इस वजह से जेट एयरवेज और इसके फाउंडर नरेश गोयल एविएशन सेक्टर के चर्चित ब्रांड बन गए. कई सालों तक आसमान में जेट एयरवेज की उड़ान सबसे तेज रही.  इसी बीच, 2006 में जेट एयरवेज ने सहारा एयरलाइन को लगभग 2,250 करोड़ में खरीद लिया. इस डील में जेट एयरवेज के बेड़े में 27 एयरक्राफ्ट और अंतरराष्ट्रीय रूट भी मिल गए लेकिन ये सौदा भारी पड़ा. यहीं से जेट एयरवेज के पतन की कहानी शुरू हो गई. साल 2008 में विश्वव्यापी मंदी भी जेट एयरवेज के पतन में अहम भूमिका में रही. जेट एयरवेज को फॉरेन फंडिंग मिलनी बंद हो गई.
इस बीच घरेलू विमान कंपनियों का कॉम्पिटिशन शुरू हो चुका था. स्‍पाइसजेट, इंडिगो, विस्‍तारा जैसी एयरलाइन कंपनियों के बीच लो-फेयर प्राइस वार छिड़ा था तब जेट एयरवेज का ध्‍यान इंटरनेशनल मार्केट में विस्‍तार का था. कंपनी ने घरेलू मार्केट को एक तरह से नजरअंदाज कर दिया. हालांकि बाद में जेट एयरवेज भी लो-फेयर प्राइस के कॉम्पिटिशन में हाथ आजमाया लेकिन तब तक देर हो चुकी थी.सस्ती हवाई सेवा वाली इंडिगो जेट की सबसे बड़ी कॉम्पिटिटर बन गई. बाद में जेट एयरवेज ने सस्ते किराए की योजनाएं शुरू करने की कोशिश की, लेकिन इससे उसकी आमदनी नहीं बढ़ पाई.

Facebook Comments