विदेश यात्रा के लिए अदालत से मिली अनुमति…मीट कारोबारी मोइन कुरैशी को राहत

दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने मांस निर्यातक मोइन कुरैशी के विदेश यात्रा के आवेदन को अनुमति दे दी है। इसके एवज में कोर्ट ने कुरैशी से 2 करोड़ रुपए की अतिरिक्त सुरक्षा या बैंक गारंटी देने का निर्देश दिया है। बता दें कि इससे पहले शुक्रवार को कोर्ट ने अपना फैसला रिजर्व रख लिया था। जानकारी के मुताबिक कुरैशी ने दुबई और पाकिस्तान की यात्रा के लिए आवेदन दिया है।

लेकिन कुरैशी के इस आवेदन को लेकर सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय ने आपत्ति जताते हुए कोर्ट में इसका विरोध किया था। बता दें कि मोइन कुरैशी पर अवैध रूप से विदेशी मुद्रा लेनदेन और कर चोरी के लिए मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत मामला दर्ज होने के बाद अगस्त 2017 में गिरफ्तार किया गया था। जिसके बाद मामला कोर्ट पहुंचा और अदालत ने पिछले साल 12 दिसंबर को जमानत दे दी थी।

अदालत में कुरैशी की याचिका का विरोध करते हुए ईडी ने कहा कि उसकी गिरफ्तारी पर सवाल उठाना कानूनी प्रक्रिया का दुरुपयोग है। इसके साथ-साथ ईडी ने कोर्ट से कहा था कि कुरैशी के खिलाफ हवाला लेनदेन के गंभीर आरोप हैं। कुरैशी पर दिल्ली स्थित हवाला ऑपरेटरों के माध्यम से अवैध लेनदेन करने का आरोप है, ऐसे में विदेश यात्रा की अनुमति न दी जाए, लेकिन कोर्ट ने सीबीआई और ईडी की दलील को खारिज करते हुए विदेश जाने की अनुमति दे दी है।

कौन हैं मोइन अख्तर कुरैशी

तीन सीबीआई डायरेक्टरों के पतन की वजह बना मोइन कुरैशी कानपुर से आने वाला कारोबारी है, कुरैशी ने दून स्कूल से पढ़ाई की है। 1993 में रामपुर में उसने मांस के कारोबार की शुरुआत की और काफी तेजी से तरक्की की। इसके बाद वो कई दूसरे बिजनेस में भी उतर गया। कारोबार के साथ-साथ वो काफी दिखावे वाली जिंदगी भी जीता है। बेटी की शादी में बेइतंहा पैसा खर्च करने और अपने भड़कीले रहन-सहन के चलते भी कुरैशी चर्चाओं में रहा है। 2014 में इनकम टैक्स ने कुरैशी के ठिकानों पर छापा मारा था। ईडी ने 2015 में कुरैशी के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया था।

Facebook Comments