सीसीटीवी कैमरे से होगी केन्द्रों की निगरानी…नकलविहीन परीक्षा के लिए यूपी प्रशासन ने कसी कमर

उत्तर प्रदेश में आज गुरुवार से बोर्ड एग्जाम शुरू हो रहे हैं। बता दें कि हाईस्कूल की परीक्षा में कुल 31,95,603 विद्यार्थी जबकि इंटरमीडिएट की परीक्षा में 26,11,319 विद्यार्थी शामिल होंगे। इन परीक्षाओं के लिए कुल 8,354 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। परीक्षा में नक़ल रोकने के लिए सभी केंद्र सीसीटीवी कैमरे से लैस रहेंगे।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में नक़लविहीन परीक्षा रोकने के लिए प्रशासन ने कमर कस ली है। नकल रोकने के लिए सभी बिंदुओं पर बेहद एहतियात बरता जा रहा है। परीक्षा केंद्रों के सभी केंद्र व्यवस्थापकों से हर पल संपर्क के लिए एक वॉट्सऐप ग्रुप तैयार किया गया है। ग्रुप में डीएम, एसपी, डीआईओएस के अलावा बीएसए, एडीएम व एएसपी नार्थ व साउथ जुड़े रहेंगे। सोमवार शाम मुख्य सचिव ने बाराबंकी के डीआईओएस, डीएम व एसपी से वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए मुखातिब होकर नकलविहीन परीक्षाएं कराए जाने के आदेश दिए गए हैं।

नीना श्रीवास्तव, सचिव, यूपी बोर्ड

यूपी बोर्ड की सचिव नीना श्रीवास्तव ने बताया कि बोर्ड के पास लगातार आती है कि उनकी कॉपी बदल दी गई है। इस प्रकार की शिकायतों को दूर करने और नकल रोकने के लिए शासन के निर्देश पर बोर्ड ने पहली बार कॉपी के हर पेज पर रोलनंबर और कॉपी की कोडिंग लिखना अनिवार्य कर दिया है। बोर्ड सचिव की ओर से इस प्रकार के आदेश सभी जिला विद्यालय निरीक्षकों के साथ केंद्र व्यवस्थापकों को भेजा गया है।

परीक्षा में नकल रोकने केलिए प्रदेश भर में कुल 1314 संवेदनशील एवं 448 अति संवेदनशील परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। परीक्षा सकुशल पूरी कराने के लिए सेक्टर मजिस्ट्रेट के साथ सचल दस्ते भी नियुक्त किए गए हैं। सचिव ने बताया कि परीक्षा में प्रदेश भर में 2।50 लाख कक्ष निरीक्षक लगाए गए हैं। सचिव ने बताया कि परीक्षा फरवरी माह में शुरू होने से बोर्ड ने परीक्षा का समय पहली पाली में आठ से 11।15 बजे के बीच कर दिया है।

बोर्ड परीक्षा की तैयारियों का जायजा लेने के लिए उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा राजेंद्र नगर में नवयुग कन्या विद्यालय का औचक निरीक्षण करने पहुंचे हैं। जहां वे परीक्षा केंद्र में सभी ज़रूरी संसाधनों का औचक निरीक्षण किया। यही नहीं, उन्होंने कक्षाओं में जाकर नक़ल रोकने के लिए शिक्षकों से विस्तृत चर्चा की।

Facebook Comments