इस जाबांज को सलाम पकड़वा चुका है अभी तक 100 आतंकियों को

जम्मू कश्मीर के राजौरी जिले के ससालकोट इलाके मे रहने वाले फंगा राम 58 वर्ष की आयु में भी हाथों में बंदूक लेकर दिन-रात गांव की रखवाली कर रहे हैं। फंगा राम मोदी जी के बड़े फैन हैं और उनसे मिलने की इच्छा रखते हैं। इसके लिए उन्होंने कई बार मोदी जी को पत्र भी लिखे पर कुछ का जबाब आया और कुछ का जवाब नहीं मिला।

गांव ससालकोट मे 1989-90 में आतंकियो का बोलबाला था। इस इलाके से घुसपैंठ होती थी और तब फंगा राम गांव के चौकीदार हुआ करते थे। वह सेना वा पुलिस को हर जानकारी दिया करते थे। उन्होंने उस समय अपने परिवार और अपनी जान की परवाह किए बिना देशसेवा में अपना योगदान दिया। फंगा राम सौ से ज्यादा आतंकियो को जिंदा पकड़वाने और कई आतंकियों को सेना व पुलिस की मुठभेड़ में मरवाने का श्रेय रखते हैं। सेना और पुलिस की तरफ से उन्हें बहादुरी बहादुरी पत्र भी दिये गए।

पीएम से मिले की इच्छा
फंगा रात कहते हैं कि दो आतंकियों को मारने वाली रूकसाना हीरो हो गई और मुझसे कभी किसी ने पूछा ही नहीं। क्या मैं पीएम से मिल भी नहीं सकता। प्रधानमंत्री से उन्होंने कहा कि हम आपके मन की बात सुनते हैं पर आप भी हमारे मन की बात सुनो।

परिवार से रहते हैं दूर
फंगा राम कहते हैं कि वह परिवार से मिलने घर नहीं जाते हैं क्योंकि बच्चों को डर है कि आतंकी उन्हें मार देंगे। स्थानीय लोग भी फंगा राम की बहादुरी की तारीफे करते हैं। गांव के नौजवान संजय कुमार ने बताया, हमारे फंगा राम जी ने सेना और पुलिस के साथ बहुत काम किया और उस समय किया जब कोई अपने घर से ही नहीं निकलता था। रुकसाना ने पता नहीं कैसे आतंकी को मारा और उस को क्या कुछ नहीं मिला पर फंगा राम की कहीं सुनवाई नहीं है।

Facebook Comments