बारहवीं कक्षा का छात्र घर बैठे अचानक 5.55 करोड़ रुपये का बना बैंक बैलेंस धारक…

उप्र के बाराबंकी शहर के आवास विकास कॉलोनी निवासी नरेंद्र शर्मा का पुत्र केशव शर्मा बारहवीं कक्षा का छात्र है। शहर स्थित एक राष्ट्रीयकृत बैंक की शाखा में उसका खाता है। नाबालिग होने के कारण इस खाते के संचालक उसके पिता ही हैं और खाते में न तो एटीएम कार्ड जारी हुआ है और न ही चेकबुक।

बारहवीं कक्षा का छात्र घर बैठे अचानक 5.55 करोड़ रुपये बैंक बैलेंस धारक बन गया। एक एसएमएस से पता चला कि उसके राष्ट्रीयकृत बैंक के माइनर खाते में उक्त रकम आ गई है। हालांकि, यह रुपये कहां से आए, यह किसी को कुछ पता नहीं था। टोल फ्री नंबर पर जब फोन किया गया तो पता चला कि उसका बचत खाता फ्रीज हो गया है।

केशव के चाचा विष्णु शर्मा ने बताया कि केशव को बीटेक की कोचिंग करानी है। इसके लिए 16 मार्च को उसे अपना खाता चेक करने को कहा गया कि उसमें कितने रुपये हैं। जब उसने ऑनलाइन अपना खाता देखा तो दंग रह गया। उसके खाते में पांच करोड़ 55 लाख 55 हजार 555 रुपये का बैलेंस दिखा रहा था। यह बात जब उसने परिजनों को बताई तो सभी अचरज में पड़ गए।

इसके बाद जब छात्र ने मोबाइल के मैसेज चेक किए तो उसमें भी इस रकम के खाते में आने की सूचना एसएमएस के माध्यम से थी, जबकि खाते में पूर्व से जमा उसके एक लाख 27 हजार रुपये नहीं थे। इसकी जानकारी हासिल करने के लिए बैंक के टोल फ्री नंबर पर बात की गई तो यह बताया गया कि यह खाता फ्रीज कर दिया गया है। शाखा प्रबंधक राकेश कुमार ने बताया कि कभी-कभी तकनीकी खराबी के कारण ऐसा हो जाता है। इसीलिए फ्रीज किया गया है बाद में उसे दुरुस्त कर दिया जाता है।

Facebook Comments