एक बार फिर सामने आया धोखाधड़ी का मामला सामने,खाते से निकल गया 42 हजार…

आवास के लिए प्रथम किस्त के रूप में 42 हजार रुपये लाभार्थी के खाते में आए। मकान की शुरूआत भी नहीं हुई कि खाते से निकल गया। मकान न बनने पर प्रशासन की ओर से लाभार्थी को 42 हजार रुपये मय ब्याज वसूली नोटिस भी आ गई।

एक ओर सरकार सबको आवास देने के लिए प्रयासरत है तो दूसरी ओर कुछ जनप्रतिनिधि आवास के पैसे डकार जा रहे हैं। लाभार्थी आवास के लिए ऐसे लोगों के पीछे-पीछे घूम रहे हैं लेकिन कोई सुनने का नाम ही नहीं ले रहा हैं। ऐसा ही एक मामला जमुआ गांव का है। यहां सत्यनारायण आवास निर्माण के लिए दर दर भटक रहा है।

आरोप है कि उसके खाते से धोखाधड़ी कर पैसा निकाल लिया गया। उसे तो एक पैसा भी नहीं मिला। नोटिस मिलने से परेशान पीड़ति ने मुख्यमंत्री सहित आला अधिकारियों के यहां आवास की किस्त जारी करने व धोखाधड़ी की जांच की मांग की है। इस मामले में ग्राम पंचायत अधिकारी कुछ बोलने को तैयार नहीं है।

Facebook Comments