भारत के इस गांव में हर कुत्ता है करोड़पति..और बेचारे इंसान

गुजरात के एक गांव के कुत्ते करोड़पति है। यहां के इंसान भले ही गरीब हो लेकिन कुत्ते अमीर है। यहां के मेहसाणा जिले के पंचोट गांव में ‘मढ़ नी पति कुतरिया ट्रस्ट’ है, जिसके पास 21 बीघा जमीन है। इस जमीन से होने वाली कमाई कुत्तों की भलाई पर खर्च की जाती है।

प्रति बीघा कीमत लगभग 3.5 करोड़ रुपए है। ये सभी पैसे ट्रस्ट के करीब 70 कुत्तों के कल्याण में खर्च किए जाते हैं। हर साल बोवाई से पहले जमीन की बोली लगाई जाती है। जो सबसे ज्यादा बोली लगाता है, उसे एक साल के लिए जमीन दे दी जाती है। इस नीलामी में लगभग 1 लाख तक की रकम मिल जाती है जो ट्रस्ट और कुत्तों की देखभाल में खर्च होते हैं।

ट्रस्ट के अध्यक्ष छगनभाई पटेल ने बताया कि कुत्तों के लिए अलग से संपत्ति रखने की परंपरा गांव में बहुत पुरानी है। इसकी शुरुआत अमीर घरानों द्वारा हुई थी, जो वो छोटी जमीनें दान में दे दिया करते थे, जिन्हें संभालने में दिक्कत होती थी।

उन्होंने बताया, ‘उस वक्त जमीनों की कीमत ज्यादा नहीं हुआ करती थी। कई बार तो संपत्ति के मालिक इसलिए जमीन दान करते थे क्योंकि वो टैक्स नहीं भर पाते थे और दान उनकी जिम्मेदारी बांट देता था।’ उन्होंने बताया कि इन जमीनों का रखरखाव 70-80 साल पहले कुछ पटेल किसानों ने शुरू किया था। लगभग 70 साल पहले सभी जमीन ट्रस्ट के पास आ गई।

हालांकि इन जमीनों के काजग पर अभी भी पुराने मालिकों के ही नाम है। उन्होंने कहा, ‘जमीन का कोई भी मालिक जमीन वापस लेने नहीं आया। जानवरों या सामाजिक कार्य के लिए दान में दी गई जमीन को वापस लेना गांव में बुरा माना जाता है।’

बता दें कि ये ट्रस्ट सिर्फ कुत्तों के लिए ही नहीं, बल्कि बाकी जानवरों के कल्याण के लिए भी काम करता है। ट्रस्ट को हर साल पक्षियों के लिए 500 किलो तक दाना मिलता है।

Facebook Comments