वर्चुअल ID बनेगी आपकी पहचान, आधार कार्ड की जगह करें इसका इस्तेमाल

जिसका उपयोग सिमकार्ड वेरीफिकेशन समेत ऐसे तमाम स्थानों पर किया जा सकता है, जहां उपयोगकर्ता को अपनी 12 अंकों की असली आधार बायोमैट्रिक पहचान देनी होती है। 

प्राइवेसी चिंताओं के बीच आपके लिए अच्छी खबर है। अब आपको अपनी पहचान के लिए आधार नंबर नहीं देना होगा। UIDAI ने वर्चुअल आईडी के बीटा वर्जन की शुरुआत की और बताया कि जल्द ही सर्विस प्रोवाइडर्स आधार नंबर के बदले इसे स्वीकार करना शुरू करेंगे। आधार यूजर्स अब अपना वर्चुअल आईडी (VID) बना सकते हैं और इसका इस्तेमाल अड्रेस को अपडेट करने के लिए भी सकते हैं।

UIDAI के मुताबिक 1 जून, 2018 से किसी भी तरह की सेवा प्रदाता संस्थाएं आधार नंबर के स्थान पर इस वीआईडी को स्वीकार करना शुरू कर देंगी। UIDAI ने ट्विटर पर अपनी पोस्ट में कहा, नई सुविधा आधार धारकों को बिना वेरीफिकेशन या सत्यापन की प्रक्रिया में अपना असली 12 अंकों का आधार नंबर दिए बिना एक वीआईडी नंबर देने की इजाजत देगी। ट्वीट में आगे कहा गया कि जल्द ही सेवा प्रदाता आधार नंबर की जगह वीआईडी स्वीकारना शुरू कर देंगे। फिलहाल आप इसका उपयोग अपने आधार में अपना पता अपडेट करने में कर सकते हैं। ट्वीट में आधार वेबसाइट का लिंक देकर आधार धारकों से अपनी वीआईडी बनाने की भी अपील की गई है।

जनवरी में निजता का मुद्दा उठने पर UIDAI ने वर्चुअल आईडी का विचार सबके सामने रखा था, जिसका उपयोग सिमकार्ड वेरीफिकेशन समेत ऐसे तमाम स्थानों पर किया जा सकता है, जहां उपयोगकर्ता को अपनी 12 अंकों की असली आधार बायोमैट्रिक पहचान देनी होती है।

Facebook Comments