नवजोत सिंह सिद्धू ने बताई पाकिस्तान की हकीकत, अब सबके मुंह बंद हो जाएंगे

पूर्व क्रिकेटर और कांग्रेस के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू पीएम इमरान खान के न्योते पर उनके ताजपोशी के लिए पाकिस्तान गए थे. उनके पाकिस्तान जाने के बाद देश में एक बड़ी बहस छिड़ी हुई है.

कोई उन्हें देशद्रोही कह रहा है, तो कोई उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर रहा है. नवजोत सिंह सिद्धू ने कभी यह नहीं सोचा होगा, कि पाकिस्तान जाना और उनके सेना प्रमुख बाजवा को गले लगाना उनको इतना भारी पड़ सकता है.

पाकिस्तान से लौटते ही सिद्धू ने बीजेपी को करारा जवाब देते हुए कहा, कि अगर आप किसी जगह पर सम्मानित अतिथि के रुप में बुलाया जाते हैं. तो आप वहां बैठते हैं, जहां आपको बोला जाता है. पहले मैं किसी दूसरी जगह बैठा था.

Third party image reference

लेकिन मुझे वहां बैठने को कहा गया, जहां पीओके के चीफ बैठे थे. इसके साथ ही सिद्धू ने पाक सेना प्रमुख बाजवा से गले मिलने पर उन्होंने कहा, कि बाजवा मेरे पास आए और उन्होंने मुझे कहा कि हम दोनों एक ही संस्कृति से जुड़े हुए लोग हैं.

Third party image reference

उन्होंने मुझसे कहा, कि हम लोग करतारपुर सीमा पर स्थित श्री गुरु नानक देव गुरुद्वारे को 550वें प्रकाश अवसर पर खोलेंगें. तो इसमें मैं क्या कर सकता था, इसलिए उनकी प्रशंसा करते हुए मुझे उनसे गले मिलना पड़ा.

Third party image reference

आपको यह बता दें, कि सिद्धू का बाजवा से गले मिलने से उन शहीद जवानों के परिवार वालों ने एतराज जताया है, जो पाकिस्तान के आतंकियों द्वारा शहीद हुए हैं.

Third party image reference

आपको यह भी बता दें, कि अभी हाल ही में बिहार के मुजफ्फरपुर के अदालत में उनके खिलाफ एक मामला दर्ज हो चुका है. उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज होने के बाद सोशल मीडिया में अलग-अलग तरह की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं.

Facebook Comments