अच्छी कमाई के बाद भी नहीं भरा मन..खुद की कंपनी खोल बने 250 करोड़ के मालिक

90’s के दौर में अंकुश आसबे नाम के शख्स ने मुंबई में कॉनट्रेक्टर की जॉब छोड़ने कर पुणे जाकर खुद का काम करने का सोचा। आज वहीं शख्स अगर उसी काम को करते रहते तो इस समय 250 करोड़ के मालिक नहीं होते।
अंकुश आसबे आज के समय में वेंकटेश बिल्डकॉन के डॉयरेक्टर है। अंकुश महाराष्ट्र के छोटे गांव सोलापुर डिस्ट्रिक से आते हैं, जहां की जनसंख्या उस समय करीब 3000 लोगों की थी। उनके पिता किसान थे, जिनकी आमदनी बहुत कम थी।
इसकी वजह रही पानी की कमी और अच्छी मार्केट कनेक्टिविटी। सरकारी स्कूल से पढ़ने और सोलापुर के पॉलीटेक्निक कॉलेज से ग्रेजुएशन होने के बाद अंकुश ने गांव से बाहर जाने का सोचा।
सिर्फ अंकुश नहीं थे जो सोलापुर से पुणे,मुंबई और नासिक जैसे शहरों का रुख कर रहे थे। कई लोगों ने उस समय सोलापुर में नौकरी कमी को लेकर शहर का रूख किया। उनकी माली हालत नहीं थी कि वो आगे की पढ़ाई कर सके। तभी उन्होंने मुंबई जाकर नौकरी करने का सोचा और अपने छोटे भाई की शिक्षा का खर्चा उठाया।
1989 में अंकुश को कॉन्ट्रैक्टर के रोल में जॉब मिली। उनको पहली सैलरी 1500 रही। उसके बाद से उन्होंने अपना भविष्य देखना शुरू कर दिया। अंकुश ने निर्माण व्यापार की चालों को जल्दी से परखा। और जल्द ही उन्होंने एक ठेकेदार के रूप में स्वतंत्र परियोजनाएं शुरू कर दीं, जिसने उन्हें कुछ ज्यादा की कमाई कर दी।
1993 तक, वे खुद को बनाए रखने और अपने परिवार की मदद करने के लिए पर्याप्त कमाई करने लगे थे, लेकिन उनके अंदर और ज्यादा पैसे कमाने की भूख थी। जो इतने पैसों में पूरी नहीं हुई। उन्होंने बताया, कि मेरा डिप्लोमा अच्छी जॉब पाने के लायक नहीं था। मैं पूरी जिंदगी नॉर्मल टाइप जॉब नहीं करना चाहता था। मैं खुद को बॉस के रूप में देखता था।
उनका मकसद सिर्फ डिप्लोमा करके उंचाइयों को छुना था इसलिए उन्होंने खुद की निर्माण कंपनी खोली दी। साल 2004 में वेंकटेश एक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में शुमार हो गई। इसके पीछे अंकुश अपने भाई, पत्नी और पत्नी के भाई का योगदान मानते हैं। इस वजह से तीनों आज कंपनी के डायरेक्टर है।
हाल में वेंकटेश कंपनी का पुणे एयरपोर्ट पर नया प्रोजेक्ट जारी है, जिसमे करीबन 1200 फ्लैट वाला कॉम्पलेक्स तैयार होना है। अंकुश ने अब 2022 तक 250 करोड़ रुपये के मौजूदा कारोबार को तीन गुना करने का लक्ष्य रख रहा है।
Facebook Comments