कुक को जीवन भर रहेगा अफसोस, पीटरसन को लेकर हुई थी बड़ी गलती

NEW YORK, NY - SEPTEMBER 05: Naomi Osaka of Japan reacts during her women's singles quarter-final match against Lesia Tsurenko of Ukraine on Day Ten of the 2018 US Open at the USTA Billie Jean King National Tennis Center on September 5, 2018 in the Flushing neighborhood of the Queens borough of New York City. Elsa/Getty Images/AFP == FOR NEWSPAPERS, INTERNET, TELCOS & TELEVISION USE ONLY ==

केविन पीटरसन को जिस तरीके से टीम से बाहर किया गया था, उसका अफसोस इंग्लैंड के ओपनर एलिएस्टर कुक को आज भी है। कुक ने भारत के खिलाफ तीसरा टेस्ट जीतने के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा की। चाैथा टेस्ट उनका आखिरी मैच होगा जो 7 सितंबर को ओवल में खेला जाएगा।

पीटरसन को ऐसे बाहर करना अच्छा नहीं था
पीटरसन को लेकर कुक ने बयान देते हुए माना कि 2013-14 की एशेज सीरीज के दौरान पीटरसन को बाहर करने का तरीका और बेहतर हो सकता था। यह बहुत कठिन साल था और पीटरसन को इस तरह बाहर करना मेरे लिए और इंग्लिश क्रिकेट के लिए अच्छा नहीं था। मैं फाइनल निर्णय किए बगैर भी इस फैसले में शामिल था।

बता दें कि साल 2014 में केविन पीटरसन को इंग्लैंड की टीम से बोर्ड से हुई अनबन के बाद बाहर किया गया था। कुक और तत्कालीन टीम सिलेक्टर एंड्रयू स्ट्रॉस दोनों ने मिल कर पीटरसन को बाहर का रास्ता दिखाया था। इस बात का जिक्र पीटरसन ने ट्वीट कर सोशल मीडिया पर भी किया था। कुक ने अपने इस फैसले को साहसिक फैसला भी बताया।

Facebook Comments