हम एक भी राफेल नहीं बनाएंगे, राफेल पर अनिल अंबानी ने राहुल गांधी को लिखी चिट्ठी

फ्रांस के राफेल विमान पर भारत में अब राजनीतिक पारा दिन-ब-दिन गर्म होता जा रहा है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी कई बार राफेल घोटाले का आरोप लगाते हुए सरकार के साथ रिलायंस ग्रुप पर भी आरोप लगा चुके हैं। इस बीच रिलायंस ग्रुप के चैयरमैन अनिल अंबानी ने कांग्रेस के आरोपों का खंडन करते हुए कहा है कि उन्हें यह डील रक्षा मंत्रालय से प्राप्त नहीं हुई थी। उन्होंने कहा कि सभी 36 विमान पूरी तरह से फ्रांस में बनेंगे हैं और इसमें रिलायंस ने इसको बनाने में एक भी रूपए खर्च नहीं कर रहा है।

रिलायंस ने कहा कि फ्रांस कंपनी की इस डील को पहले HAL (हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड) ने नजरअंदाज किया और उसके बाद डसॉल्ट ने रिलायंस डिफेंस लिमिटेड को चुना, जिसमें रक्षा मंत्रालय की कोई भूमिका नहीं थी।

अनिल अंबानी ने कहा कि राहुल का आरोप है कि 10 अप्रैल 2015 को पेरिस में फ्रांस और भारत सरकार के राफेल की घोषणा से 10 दिन पहले रिलायंस डिफेंस बनाई गई। जबकि सच यह है कि कि रिलायंस ग्रुप ने डिफेंस मेन्युफेक्चर में दिसंबर 2014- जनवरी 2015 में कदम रखा जबकि राफेल खरीदने की चर्चा एक महीने पहले से हो रही थी।

उन्होंने कहा कि इस मामले में पूरी तरह से गलत बयानबाजी हो रही है और साफ तौर पर जानकारी का अभाव नज़र आ रहा। विपक्ष ने पिछले माह राफेल मामले में जेपीसी की मांग की थी। राहुल गांधी ने पिछले सप्ताह जयपुर में लोगों को संबोधित करते हुए कहा था कि राफेल को लेकर यूपीए में जो डील हुई थी, उसकी कीमत मोदी सरकार में बहुत ज्यादा हो चुकी है। राहुल गांधी का आरोप है कि सरकार ने ‘एक बिजनेसमेन’ को फायदा पहुंचाने के लिए इस पूरी डील को ही बदल दिया है।

Facebook Comments