चिकन-मटन में इस तरह मिलाया जा रहा इन जानवरों का मीट….

आम आदमी हो या खास आदमी चिकन और मटन हर वर्ग का शख्स खाता है। हाल ही में कोलकाता में एक ऐसा गिरोह पकड़ा गया जो मटन और चिकन के नाम पर कुत्ते और बिल्ली का मांस बेच रहा था।

पुलिस जांच के बाद अब इस मामले में नए पहलू सामने आए हैं। पुलिस के मुताबिक, सिर्फ कोलकाता ही नहीं इस रैकेट के पूरे भारत में फैले होने का शक है। इसके अलावा बांग्लादेश और नेपाल तक यहां से कुत्ते-बिल्ली का मांस भेजा जा रहा था। साउथ 24 परगना के एसपी कोटेश्वर राव ने बताया कि, इस गिरोह का खुलासा तब हुआ जब स्थानीय लोगों ने दो ऐसे लोगों को पकड़ा जो मरे हुए पशु का मीट लेकर जा रहे थे। इसके बाद हमने बिहार में गिरोह से जुड़े लोगों को पकड़ने के लिए विशेष टीम भेजी थी।

 

हमारी जांच से सामने आया कि ये गिरोह मरे हुए पशुओं का मीट पहले प्रोसेस्ड करता था फिर इस पर एक तरह का सफेद पाउडर डालकर कोल्ड स्टोरेज में इकट्ठा रखता था। मीट को प्रिजर्व करने के लिए केमिकल्स का इस्तेमाल किया जाता था। गिरोह किस तरह इस अवैध धंधे को अंजाम देता था, एसपी राव ने इस बारे में बताया कि पूरा गिरोह एक मुखबिर के इशारे पर काम करता था, जो जैसे ही म्युनिसिपल यार्ड में कोई मृत पशु आता तो वो इस बारे में गिरोह को सूचना दे देता था।

गिरोह के सदस्य वहां पहुंच कर मृत पशु का मीट लेकर कोल्ड स्टोरेज पहुंचा देते थे। फिर मीट के छोटे टुकड़े कर प्रोसेस किया जाता था और उसे चिकन और मटन के ताजा मीट के साथ मिला दिया जाता। फिर इसे पैक कर शहर के रेस्टोरेंट में पहुंचा दिया जाता. इसे सोनारपुर, टांगरा जैसे इलाकों में सप्लाई किया जाता था। पुलिस के मुताबिक इस प्रोसेस्ड मीट को 60-65 रुपए प्रति किलो की दर से बेचा जाता था। गिरोह के पकड़े जाने के बाद से कोलकाता के लोगों में इस तरह के खतरनाक मीट को लेकर दहशत है।

ममता बनर्जी सरकार ने इस पूरे मामले की गहन जांच के लिए स्पेशल इंवेस्टीगेशन टीम का गठन किया है। कोलकाता म्युनिसिपल कॉरपोरेशन (केएमसी) की ओर मीट की क्वालिटी चेक करने के लिए व्यापक मुहिम छेड़ी है। इसके तहत शहर के रेस्टोरेंट और ईटिंग स्टाल्स में जाकर पके हुए मीट के सैम्पल लिए जा रहे हैं। जांच में शामिल अधिकारियों का कहना है कि इस अवैध मीट के विक्रेता नादिया, हावड़ा, नॉर्थ और साउथ परगना समेत कई जिलों में फैले हुए हैं। स्थानीय प्रशासन को मीट सप्लायर्स और दुकानों पर अचानक छापे मारने के निर्देश दिए गए हैं।

 

Facebook Comments