नकली सोना जमा कर बैंक को दिया धोखा…

बिहार में नकली सोना जमा कर गोल्ड लोन लेने का मामला धीरे-धीरे बढ़ता ही जा रहा है. जिसमे अभी तक राजधानी के बिहटा में ही करीब 23 लोगों पर जालसाजी कर बैंक से करीब 48 लाख का गोल्ड लोन का मामला दर्ज हो चुका है. यही नही करीब एक दर्जन से अधिक ऋणी बैंक से नोटिस मिलने के बाद पैसा जमा कर अपनी जान बचा चुके हैं. जिसमें अधिकांश स्वर्णकार हैं. सभी द्वारा जमा किया गया सोना नकली पाया गया है. सभी मामले वर्ष 2013 और 14 के बीच का है. कई जालसाज ऐसेे है जो एक साथ दूसरे बैंक को भी चुना लगाये हैं.

इस मामले में बैंक का कहना है सोने की गुणवत्ता जांचने के लिये लिये बैंक द्वारा अधिकृत एजेंसी की जांच रिपोर्ट मिलने के बाद ही ऋण स्वीकृत किये जाते है. इसके लिये जांच एजेन्सी भी उतना ही दोषी है,जितना लोन लेने वाले. एजेंसी भी स्वर्णकारों की है. बैंक ने जांच एजेंसी पर भी धोखाघड़ी करने के लिये पुलिस से कार्रवाई के लिये लिखा है. उधर जैसे-जैसे इस तरह के मामले सामने आ रहे हैं.

बैंक मुकदमा कर रही ही है. उसमें कई जेल की भी हवा खा चुके है. बताया जाता है कि अधिकांश मामले का खुलासा तब हुआ है. जब ऋणी बैंक में क़िस्त जमा करने नहीं पहुंचे. जब उनके खाते एनपीएस हुआ तो सोने की दुबारा जांच की गयी. जालसाजों के सामने आ रहे कारनामो से बैंको की नींद उड़ा दी है. एक वर्ष के इसी तरह के कई मामले सामने आये थे. जिसमे करीब डेढ़ दर्जन जालसाजों पर 35 लाख रुपए ऋण लेने का मामला दर्ज कराया गया है.

 स्टेट बैंक कृषि विकास शाखा के प्रबंधक मुकुंद कुमार ने 5 लोगों पर धोखाघड़ी कर करीब 13 लाख रुपये ऋण लेने का मामला दर्ज कराया है. यह मामल स्टेट बैंक बीकानेर एंड जयपुर का है. स्टेट बैंक में विलय के बाद इसका खुलासा हुआ है. इसमें जांच एजेंसी खुशबू ज्वेलर्स के साथ-साथ यहां के अनिल प्रसाद पर 3, अशोक कुमार पर 2 लाख 60 हजार, अश्वनी प्रसाद पर 2लाख 40हजार, लाजवंती देवी पर 1लाख 10 हजार, तथा सदिसोपुर निवासी हीरालाल प्रसाद पर 3लाख 90 हजार रुपये ऋण लेने का मामला दर्ज किया गया है. पुलिस उनकी गिरफ्तारी में जुट गयी है.

Facebook Comments