मुंह के दुर्गन्ध को करें दूर,अपनाएं ये upaye

दंत चिकित्सकों की भाषा में इसे हैलिटोसिस कहते हैं।सांस की बदबू कई बार शर्मिंदगी का कारण बन जाती है। इंटरव्यू हो या दोस्तों की गपशप सांस की बदबू की वजह से हंसी का पात्र बन सकते हैं। कई बार सांस की बदबू मुंह की अच्छे से सफाई न होने के कारण होती है, तो दांतों में समस्या भी इसकी वजह हो सकते हैं।

इसके अलावा कई बार कुछ खाने के कारण भी मुंह से दुर्गंध आने लगती है।  एक प्रमुख अमेरिकी कंपनी के संस्थापक और डेंटिस्ट डॉक्टर हॉवर्ड काट्ज का कहना है कि हमारे आसपास किसी को हैलिटोसिस है, इसका उसे एहसास कराना भी जरूरी होता है। इसके अलावा डॉ. काट्ज ने मुंह की दुर्गंध दूर करने के लिए उपाय भी बताए हैं।

कॉटन टेस्ट : रूई से अपने जीभ को पोंछें और उसे सूंघ कर देखें। अगर उसमें कुछ अजीब सी महक आ रही है और रूई पर पीलापन नजर आ रहा है, तो आपके मुंह में सल्फाइड का स्तर बढ़ गया है। यही दुर्गंध का कारण भी है।
हाथ के पीछे जीभ से स्पर्श : अपने हाथों के पिछले हिस्से को जीभ से स्पर्श करें और उसे पांच से 10 सेकेंड के लिए छोड़ दें। दोबारा देखने पर अगर आपको दुर्गंध आ रही है तो, इस पर ध्यान देने की जरूरत है।
डेंटल फ्लॉस : डेंटल फ्लॉस को डेंटिस्ट कई समस्याओं से छुटकारे का जरिया बताते हैं। दांतों के पिछले हिस्से में डेंटल फ्लॉस का इस्तेमाल करें। अगर फ्लॉस से दुर्गंध आ रही है, तो आपको सांसों की बदबु की शिकायत हो सकती है।
शीशे में देख करें परीक्षण : शीशे में देखकर जीभ को बाहर निकाल लें। अगर आपकी जीभ में पीलापन नजर आ रहा है, तो यह सांसों की बदबू का कारण हो सकता है।

दुर्गंध के कारण
मुंह में सल्फर बनने के कारण या फिर दुर्गंध फैलाने वाले बैक्टीरिया के कारण यह स्थिति खड़ी हो सकती है। इसके अलावा मुंह का सूखना, धूम्रपान, शराब, खर्राटे आदि कारण हो सकते हैं।

सांसों की बदबू क्या कहती है सेहत के बारे में
पूर्व में हुए शोधों में कहा गया है कि 10 फीसदी हैलिटोसिस के मामले किसी बीमारी के कारण होती हैं। डायबिटीज, साइनस, निमोनिया, ब्रॉन्काइटिस, फेफड़ों, गुर्दे, कैंसर, लीवर की बीमारी, सांस लेने के रास्ते में संक्रमण, या चयापचय संबंधी समस्या भी सांसों की दुर्गंध का कारण बनती है।

एंटीडिप्रेसेंट, हाई ब्लडप्रेशर की दवाओं के कारण मुंह में लार कम बनती है, जिससे मुंह सूख जाता है। इससे भी दुर्गंध आ सकती है।

मुंह का कैंसर, एचआईवी संक्रमण, पाचन तंत्र में समस्या, डायबिटीज, जिंक की कमी या डीहाइड्रेशन भी इसकी वजह को सकती है।

प्याज और लहसुन मुंह से दुर्गंध का कारण बनते हैं। इसके अलावा दुग्ध उत्पाद, मीट और मछली में प्रोटीन होने के कारण यह भी बदबू का कारण हो सकते हैं। कॉफी और जूस भी मुंह से बदबू को बढ़ाते हैं।

ऐसे फल या सब्जियां, जिनमें विटामिन सी की प्रचुर मात्रा है वह मुंह की सेहत के लिए अच्छे होते हैं। इनका सेवन जिनजिवाइटिस का खतरा कम हो सकता है। सेब और गाजर भी दांतों के लिए अच्छे होते हैं।

Facebook Comments