प्लास्टिक को नष्ट करने का तरीका, गलती से तैयार हुआ प्लास्टिक ईटिंग एन्जाइम

पर्यावरण को साफ रखने के लिए मुंबई सहित कई देशों में प्लास्टिक की चीजों पर बैन लगा दिया गया है। लेकिन US  और UK के साइंटिस्ट ने प्लास्टिक को खत्म करने का बेहद ही अलग तरीका निकाला है। जो शायद खुद में ही अनोखा है। बता दें कि सबसे खास बात ये है कि ये आविष्कार गलती से अंदाजे में हुआ है।
ब्रिटिश रिसर्चर्स ने एक रिसर्ज करते हुए ग़लती से प्लास्टिक-पचाने वाले प्रोटीन (Plastic-digesting Protein) बना दिया है। जब इसका टेस्ट किया गया तब सामने आया कि लैब में बनाए गए इस एन्ज़ाइम में पॉ (Polyethylene Terephthalate (PET)) को छोटे-छोटे टुकड़ों में तोड़ने की ताकत थी। PET, प्लास्टिक के अलग-अलग प्रकारों में से एक है, जो फ़ूड और ड्रिंक इंडस्ट्री में सबसे ज़्यादा इस्तेमाल होता है।
British Plastics Federation के अनुसार, Pet से बनाई गई बोतलों का उपयोग 70 प्रतिशत सॉफ़्ट ड्रिंक्स, जूस और मिनरल वॉटर की पैकेजिंग के लिए किया जाता है, जो दुकानों और सुपरमार्केट में बेचीं जाती हैं। हालांकि, ये भी कहा जाता है कि ये पूरी तरह रिसाइकल हो सकती हैं,
लेकिन अगर देखा जाए तो इनको डिस्कार्ड करने के बाद भी सैंकड़ों सालों तक ये वैसी की वैसी ही रहती हैं और वातावरण को दिन पर दिन नुक्सान पहुंचाती हैं।
इस रिसर्च से ये पता चल गया है कि इस तरह की कोई टेक्नोलॉजी है और ये एक अच्छी संभावना है कि आने वाले सालों में हम एक टेक्नोलोजी की मदद से Pet और दूसरे प्लास्टिक जैसे PEF, PL और PBS को वापस उनके मूल रूप में परिवर्तित किया जा सकेगा, ताकि लगातार उनका पुनर्नवीनीकरण किया जा सके।
फ़ाइनली रिसर्चर्स को मिला प्लास्टिक को नष्ट करने का तरीका, ग़लती से बन गया प्लास्टिक ईटिंग एन्ज़ाइम
Facebook Comments