बद्रीनाथ में बर्फबारी का यह नजारा कई वर्षों बाद दिखा

यह एक भी एक अद्भुत संयोग है एक ओर मंदिर को फूलों से सजाया जा रहा है। दूसरी ओर पूरी बद्रीपुरी सफेद बर्फ से ढकी है।

 

कपाट बंद होने के उत्सव को देखने के लिए देश-विदेश से भी यात्री, श्रद्धालु यहां पहुंचने लगे हैं। वाहनों की आवाजाही लगातार जारी है। बर्फ गिरने के कारण कुछ लोगों ने अपने प्रतिष्ठानों और आश्रमों के बाहर अलाव भी जलाये हैं। कपाट बंद होने से पूर्व बद्रीनाथ में बर्फबारी का यह नजारा कई वर्षों बाद दिख रहा है।

 

धाम में अभी कुछ व्यावसायिक प्रतिष्ठान खुले हैं कुछ बंद करने की तैयारी में लगे है। कपाट बंद होने पर गढ़वाल राइफल अपने बैंड की जो मधुर ध्वनि बजाती है। उसके लिए सेना के बैंड भी यहां पहुंच चुके हैं। माणा, बामणी गांव के लोग भी कपाट बंद होने के पल भगवान के दर्शनों और पूजा-अर्चना की तैयारी में लगे हैं।

 

बद्रीनाथ, केदारनाथ, और यमुनोत्री में शनिवार सुबह से बर्फबारी शुरू हो गई है। वहीं  हेमकुंड, फूलों की घाटी, रुद्रनाथ, नंदा घुंगटि सहित ऊंचाई वालें में क्षेत्रों में बर्फबारी जारी है, इससे निचले क्षेत्रों में ठंड बढ़ गई है।

Facebook Comments