Dharm : मृत्यु के बाद किसका होता है पुनर्जन्म और किसका नहीं होता-नारदपुराण में बताया गया है ये रहस्य

दुनिया से जाने के बाद आप का दोबारा जन्म होगा या नहीं नारदपुराण का इसका अद्भुत रहस्य बताया गया है। कहा जाता है कि  पाप और पुण्य के आधार पर ही मनुष्य का जन्म होता है।

यदि दुनिया से जाने के बाद मनुष्य इंसान का रूप लेकर जन्म लेता है या फिर अन्य प्रजाति में, तो चलिए जानते हैं उसके बारे में विस्तार से। नारद पुराण के बारे में तो सभी जानते ही हैं। नारदपुराण में इस बात का उल्लेख किया जाता है। जब कोई व्यक्ति किसी सुगंधित खुशबू वाले फूलों से भगवान विष्णु की पूजा आराधना करेगा। उसके सारे पाप धुल जाएंगे। वह व्यक्ति पिछले पापों से मुक्त हो जाएगा और जीवन में वह व्यक्ति जिस किसी भी वस्तु की इच्छा रखेगा।

वह वस्तु उससे प्राप्त हो जाएगी, परंतु एक दिन उसके जीवन में ऐसा दिन भी आएगा। जब उसे सब कुछ दान करना पड़ेगा और वह दान ही उसे मृत्यु के पश्चात मोक्ष की प्राप्ति दिलाएगा और ऐसा नहीं करने पर उसे दर दर भटकना पड़ेगा। नारदपुराण में बताया गया है, कि जब कोई भी मनुष्य सुबह जल्दी उठकर स्नान कर भगवान विष्णु को तुलसी के पत्ते अर्पित करेगा, तो उस व्यक्ति को भगवान विष्णु के लोक में जगह प्राप्त होगी।

नारद पुराण में इस बात का उल्लेख बहुत ही सरलता से किया गया है, कि जो व्यक्ति किसी पराई स्त्री की तरफ आंख उठाकर भी नहीं देखेगा और इसके साथ-साथ गाय माता की सेवा करेगा, तो उस व्यक्ति को भगवान विष्णु की कृपा प्राप्त होगी।

Facebook Comments