Breaking : कुलगाम में सुरक्षाबल और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी, तीन आतंकी ढेर

जम्मू कश्मीर के कुलगाम में सुरक्षाबल और आतंकियों के बीच मुठभेड़ चल रही है। ये मुठभेड़ आज सुबह से ही हो रही है। सुरक्षाबल के जवानों ने अब तक तीन आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया है। इस बीच बारामूला और काजीगुंड के बीच ट्रेन सेवा भी रोक दी गई है।

दो दिन पहले तीन आतंकियों को किया था ढेर
जम्मू कश्मीर के विभिन्न इलाकों में आतंकियों और सुरक्षा बलों के बीच जारी मुठभेड़ में तीन आंतकी मारे गए थे, जबकि एक डीएसपी समेत 12 जवान घायल हो गये। मारे गए आतंकी जैश-ए-मोहम्मद के थे।

पुलिस अधिकारी ने बताया कि घेराबंदी और तलाश अभियान के दौरान सुरक्षा बल जिले के ककरियाल इलाके में एक घर के नजदीक पहुंच गये और आतंकवादियों की घेराबंदी कर दी। उन्होंने बताया कि सीआरपीएफ, पुलिस और सेना के जवानों के साथ सुरक्षा बल जैसे ही उनके पास पहुंचे मुठभेड़ शुरू हो गयी।

बुधवार को शुरू किए गए इस अभियान की शुरूआत सोपारा से हुई थी, जब सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सोपारा में एक अॉपरेशन चलाया गया और दो आतंकियों को मार गिराया गया। इन आतंकियों की उम्र 18 से 22 साल के बीच बताई जा रही है।

आतंकवादियों का पता लगाने के लिए ड्रोन और हेलीकॉप्टरों का इस्तेमाल किया गया। घायल जवानों को कटरा के नारायण अस्पताल में भर्ती कराया गया है। ये पुलिस, सीआरपीएफ और सेना का एक संयुक्त अॉपरेशन था। कमांडर वी. हरीहरण ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया।

गार्ड रूम में मिली थी पुलिसकर्मी की लाश
10 सितंबर को जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में एक पुलिसकर्मी की लाश मिलने से हड़कंप मच गया। मृतक कुपवाड़ा जिले के ही एक बैंक की सुरक्षा में तैनात था। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर मामले की तहकीकात शुरू कर दी है।पुलिसकर्मी की लाश बैंक के गार्ड रूम से बरामद की गई थी।

पुलिस ने मृतक की पहचान कांस्टेबल मोहम्मद हुसैन के रूप में की है। वो कुपवाड़ा शहर में जम्मू और कश्मीर बैंक के करेंसी चेस्ट में तैनात था। खबरों के मुताबिक जम्मू-कश्मीर के एक आला अधिकारी ने बताया कि कांस्टेबल हुसैन की मौत कैसे और किस तरह से हुई है, इस मामले में तफ्तीश चल रही है।

अभी तक इस मामले में पुलिस को कई सुराग नहीं मिला है। बता दें कि ये इस तरह की पहली घटना नहीं है। इससे पहले भी आतंकवादियों ने शोपियां में चार पुलिसकर्मियों की जान ले ली थी।

Facebook Comments