रिसेप्शन पार्टी के दौरान बीफ परोसे जाने के शक में एक आदमी पर हमला….

पुलिस ने मामले में शामिल 7 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। मामले की जांच कर रही पुलिस ने बताया कि आरोपियों पर धारा  144 लगाई गई है। साथ ही अब मामला अब शांत है। हिंसा इतनी ज्यादा बढ़ गई थी कि इस दौरान कुछ घरों और धार्मिक स्थलों पर तोड़फोड़ और आगजनी की वारदातें भी हुई।

पुलिस ने बताया कि जुम्मन मियां वहां के अल्पसंख्यक समुदाय के दर्जी हैं। सोमवार (16 अप्रैल) को उनके बेटे की रिसेप्शन पार्टी थी। इसके बाद मंगलवार को लोगों में यह अफवाह फैल गई कि उसने मेहमानों को बीफ परोसा था। सिर्फ इसी शक के आधार पर लोगों ने पूरे इलाके में हड़कंप मचा दिया।

हालांकि जुम्मन ने इस अफवाहों को झूठा बताते हुए कहा कि पार्टी के मेन्यू में बीएस मछली और मुर्गे का मांस ही परोसा गया था। बता दें लोगों के साथ हुई मारपीट के बाद उन्हें काफी चोटें आई हैं। जिसके बाद उन्हें रांची के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

 

पुलिस ने अपनी जांच के बाद बताया कि लोगों को यह शक इसलिए हुआ क्योंकि उन्होंने मंगलवार सुबह जुम्मन के घर के पीछे खुर और हड्डियां देखीं थी।इसके बाद उन्होंने दावा किया कि यह रिसेप्शन के दौरान बची हुई जूठन ही है। बस इसी से बौखला कर वो जुम्मन के घर पहुंचे और गौ-हत्या का इलजाम लगाते हुए उसके घर का सामन इधर-उधर फेंकने लगे।इस हंगामे के दौरान भीड़ ने 16 घरों समेत 21 वाहनों को क्षति पहुंचाई।

इस हंगामे के दौरान किसी ने पुलिस को कॉल कर के सूचना दी। घटनास्थल पर पहुंची पुलिस भी हंगामे का शिकार हो गई। और एक इंस्पेक्टर भी इस मुठभेड़ में घायल हो गया। जिसके बाद पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। फिलहाल इस मामले में पुलिस ने पांच लोगों हिरासत में लिया है। उनसे पूछताछ जारी है।

Facebook Comments