गरीबी में मरी अमीर भिखारिन,बैग में दो लाख 24 हजार 175 रुपए मिले…..

एक भिखारिन की इस कहानी को सुनकर शायद आपको विश्वास ना हो लेकिन यह बिल्कुल सच है। शारीरिक रूप से अक्षम एक भिखारिन मुफलिसी में मर गई, जबकि उसके बैंक में नौ करोड़ रुपए से अधिक राशि जमा थी। उसे दान देने वाले लोगों को जब इस बात का पता चला, तो उनके आश्चर्य का ठिकाना नहीं रहा। 

इतना ही नहीं, उसके घर से मिले दो बैग में दो लाख 24 हजार 175 रुपए भी मिले। पुलिस ने बताया कि लेबनान की राजधानी बेरुत में फातिमा ओथमन की मौत के बाद जब उन्होंने जांच की, तो यह खुलासा हुआ। पुलिस के प्रवक्ता जोसेफ ने यह भी कहा कि इतनी मात्रा में कैश देखकर वे हैरान थे। उन्होंने कहा कि 52 साल की फातिमा की मौत में कुछ भी संदिग्ध नहीं पाया गया है। उनकी मौत दिल का दौरा पड़ने से हुई थी।

हालांकि, उसके घर से मिला कैश और बैंक खाते में जमा रकम जरूर चौंकाने वाली थी। महिला को जानने वाले स्थानीय लोगों में से अधिकांश उसे रुपए और खाना दिया करते थे। जब उन लोगों को भी महिला के पास से मिले कैश के बारे में पता चला, तो वे भी चौंक गए।

एक दयालु लेबनानी सैनिक ने उसे जब हाथ और पैरों का इस्तेमाल करने में असमर्थ पाया, तो उसे पानी और खाना दिया था। इसकी फोटो ऑनलाइन पोस्ट होने के बाद फातिमा एक सेलिब्रिटी बन गई थी। सैनिक की इस “करुणा और मानवता” के लिए उसके कमांडर से उसकी तारीफ भी की थी। फातिमी की मौत के बाद पुलिस ने उत्तरी लेबनान के ऐन अल-जहाब शहर में उसके परिवार को ट्रैक किया।

इसके बाद परिजनों ने महिला के शव को दफना दिया। इस बात का पता महिला के परिवार को भी नहीं था कि वह इतनी समृद्ध थी। स्थानीय लोगों ने बताया कि लेबनानी गृह युद्ध के दौरान फातिमा ने अपने हाथ और पैर खो दिए थे।

Facebook Comments