भूत भगाने के नाम पर मुंह में जूता लेकर चलती हैं महिलाएं, पिलाया जाता है..

भीलवाड़ा (राजस्थान)। 21वीं सदी में ऐेसा अंधविश्वास देखकर रूह कांप जाए। राजस्थान के भीलवाड़ा जिले के आसिंद के नजदीक बंक्याराणी माता मंदिर की 200 सीढ़ियां इसकी गवाह हैं। यहां हर शनिवार और रविवार को हजारों भक्तों के हुजूम के बीच 200-300 महिलाओं को ऐसी यातनाओं से गुजरना पड़ता है जिसे देखकर ही रोंगटे खड़े हो जाते हैं। ये यातनाएं भूत से मुक्ति दिलाने के नाम पर दी जाती हैं।

भूत भगाने का धंधा करने वाले (भोपा) हनुमान मंदिर में बने कुण्ड के गंदे पानी को चमड़े के जूते में भरकर पिलाते हैं। वो भी सात बार। मना करने पर महिलाओं को पीटा जाता है। पीठ और सिर के बल रेंगकर ये महिलाएं 200 सीढ़ियों से इसलिए नीचे उतरती हैं ताकि इन्हें कथित भूत से मुक्ति मिल जाए। सफेद संगमरमर की सीढ़ियां गर्मी में भट्‌टी की तरह गर्म हो जाती है।

पानी पीने से मना करने पर भोपा करते हैं पिटाई।

कपड़े तार-तार हो जाते है, शरीर जख्मी हो जाता है, सिर और कोहनियों से खून तक बहने लगता है। किस्सा यहीं खत्म नहीं होता। चमड़े के जूतों से मारा जाता है, मुंह में चमड़े का गंदा जूता पकड़कर दो किमी चलना पड़ता है, इन्हें उसी गंदे जूते से गंदा पानी तक पिलाया जाता है।महिलाओं को करीब दो सौ सीढ़ियों पर पीठ के बल रेंगकर उतरने पर मजबूर किया जाता है।

पूरे वक्त अधिकांश महिलाएं चीख-चीखकर ये कहती हैं कि उन पर भूत-प्रेत का साया नहीं, वो बीमार हैं लेकिन किसी पर कोई असर नहीं होता। करीब छह-सात घंटे तक महिलाओं को दर्दनाक यातनाओं को सहना पड़ता है।

Facebook Comments