भूमि विवाद में अज्ञात बदमाशों ने वृद्ध की गला रेत कर की हत्या …

घटना की बाबत धानो देवी ने बताया कि पति झोपड़ी में भोजन करने के बाद सो गए। आधी रात के बाद बदमाशों ने मेरे पति की हत्या कर दी। पति के घिघियाने की आवाज पर जगी तो देखा कि पति की हत्याकर कर करीब 7 अपराधी भाग रहे थे।

बिहार के पूर्वी चंपारण जिले के मधुबन थानाक्षेत्र के भगवानपुर नया टोला गांव में सोमवार की रात भूमि विवाद में अज्ञात बदमाशों ने जानकी सिंह (70 वर्ष) की हत्या गला रेत कर दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने मंगलवार की सुबह घटनास्थल पर पहुंचकर शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए मोतिहारी भेजा है।

महिला ने घटना में लिप्त सभी अपराधियों को पहचान लेने का दावा किया है। कहा कि पिछले चार दिनों वे सभी यहां रात्रि में मेरे घर के पास रेकी करते थे। हमारी कोई संतान नहीं थी। दोनों अपने भतीजे के साथ रह रहे थे। इस बीच मौके पाकर हत्यारों ने मेरे पति को मौत के घाट उतार दिया।

उधर, घटना की सूचना मिलने के साथ तीन थानों की पुलिस क्रमश: मधुबन थानाध्यक्ष अमित कुमार, राजेपुर ललित कुमार सिंह और फेनहारा रोहित कुमार के नेतृत्व में मौके पर पहुंची और मामले की प्रारंभिक जांच की। वृद्ध की पत्नी और भतीजे के बयान पर आगे की कार्रवाई की जा रही है। थानाध्यक्ष अमित कुमार ने बताया कि घटना में शामिल अपराधियों की पहचान व गिरफ्तारी के लिए कोशिश की जा रही है। जल्द ही सभी की गिरफ्तारी कर ली जाएगी।

मृतक जनक सिंह के भतीजा मनोज सिंह ने स्थानीय थाना में चार लोगों के विरूद्ध कांड संख्या 4-2018 के तहत प्राथमिकी दर्ज कराई थी। पुलिस को दिए आवेदन में कहा था कि हमारे चाचा जनक सिंह को पुनर्वास के लिए सरकार से 3 कट्ठे जमीन मिली थी। मैं अपने चाचा-चाची की देख रेख करता हूं।

जमीन के कुछ हिस्से को गांव दबंग पड़ोसी जयनारायण राय का पुत्र रंजीत राय, बृजकिशोर राय, अवधेश राय और राजेश राय जमीन हड़पना चाहते थे। उसके लिए सभी ने एक षडयंत्र के तहत मेरे चाचा को एक दिन घर में बंदकर कुछ कागज पर दस्तखत भी कराया। फिर 2 लाख की रंगदारी की मांग की। कहा- रुपया नहीं देने पर जमीन पर कब्जा नहीं करने देंगे। बाद में हमसे भी वे लोग 20 हजार रूपये ठग लिये। पैसा मांगने पर जान मारने की धमकी मिली। उधर, रूपणी पंचायत के मुखिया पति किशोरी बैठा ने कबीर अंत्येष्टि के तहत पीड़ित परिवार को दिये 15 सौ रुपये बतौर रिश्वत दिए थे।

Facebook Comments