आए दिन बच्चों, बुजुर्गों और महिलाओं को जख्मी कर रहे ये जानवर….

नॉएडा की सोसायटियों में बंदरों के हमले की बढ़ती घटनाओं से लोग सकते में हैं। ये आए दिन बच्चों, बुजुर्गों और महिलाओं को जख्मी कर रहे हैं। 

सोसायटी के लोगों ने वन विभाग से मदद मांगी है और प्रशासन से अपील की है कि बंदरों को पकड़वाया जाए, लेकिन आरोप है कि कहीं कोई सुनवाई नहीं हो रही है। बीते दो दिनों में बंदर दो महिलाओं को काट चुके हैं। नोएडा फेडरेशन ऑफ अपार्टमेंट ओनर असोसिएशन की मेंबर निशा राय ने बताया कि शहर की लगभग 40 सोसायटियों से लोग मंकी बाइट की कंप्लेंट कर रहे हैं।

मंगलवार दोपहर जेनिथ सोसायटी में ई टावर में रहने वालीं कीर्ति सक्सेना अपने बेटे को सोसायटी के गेट पर स्कूल बस से लेने जा रही थीं। वह फोन पर पति विशाल से बात कर रहीं थीं। जैसे ही वह बैडमिंटन कोर्ट के पास पहुंची, पीछे से बंदर ने उनपर हमला कर दिया और दाहिने पैर को काट लिया। उनके पैरों में 2 से 3 इंच लंबा घाव हो गया। उन्हें तत्काल अस्पताल ले जाया गया। जहां प्राथमिक चिकित्सा के बाद उन्हे ऐंटी रेबीज का टीका लगाया गया।

75 वर्षीय प्रेमा जुगरान ने बताया कि ये बंदर बच्चों और बुजुर्गों को निशाने पर रखते हैं। उन्होंने बताया कि सोमवार को ईवनिंग वॉक के दौरान एक बंदर ने उन्हें दौड़ा लिया, सड़क पर गिर जाने से उनके घुटनों और कोहनी में चोट लग गई। सोसायटियों के एओए पदाधिकारियों का कहना है कि बंदर पकड़वाने के लिए बुलाई जाने वाली प्राइवेट एजेंसियों के लोग वृंदावन से आते हैं जो 1 बंदर पकड़ने के लिए लोगों से 5 से 10 हजार तक वसूल लेते हैं।

यहाँ तक की लोगों ने बंदरों के आतंक से बचने के लिए अपने अपार्टमेंट की बॉलकनी में लंगूर की बड़ी फोटो लगा ली है। उन्होंने बताया कि बंदरों से परेशान होकर उन्होंने फरवरी में यह फोटो लगाया जिसके बाद बंदर उनके घर में नहीं आते। अच्युतानंद का कहना है कि लोग सावधानी के तौर पर लंगूर का फोटो लगा सकते हैं।

 

Facebook Comments