दुल्हन बोली-बारात लेकर लौट जा… तुम्हारे साथ नहीं बतानी जिंदगी ,मंडप पर लड़खड़ाए दूल्हे के पैर….

शादी के लिए मंडप पर बारात पहुंच चुकी थी। दूल्हे के दोस्त और परिवार वाले डीजे की धुन पर नाच रहे थे और मंच पर दुल्हन का इंतजार हो रहा था।

आखिरकार वो पल आया जब दुल्हन मंच पर पहुंच गई। लोग दूल्हा-दुल्हन के वरमाला पहनाने की रस्म का इंतजार कर रहे थे। लेकिन हाथ में वरमाला पकड़े खड़ी दुल्हन ने शादी से इंकार कर दिया। मंच पर ही दुल्हन ने दूल्हे को बारात वापस ले जाने को कहा।

 

मामला उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले के कमलापुर थाना क्षेत्र का है। यहां के गांव पतारा कला में सुरेश प्रकाश सिंह की पुत्री चांदनी सिंह की शनिवार को शादी होनी थी। अपने होने वाले दूल्हे के लिए चांदनी ने बड़े अरमानों के साथ हाथों में मेहंदी रचाई थी। 14 अप्रैल को घर पर बारात आई, धूमधाम से स्वागत हुआ, जयमाल के स्टेज पर चांदनी पहुंची भी लेकिन कुछ ही देर में चांदनी ने शादी से इनकार कर दिया।

 

दरअसल, वरमाला पहनाने से ठीक पहले दूल्हे के हाव-भाव पर दुल्हन को कुछ शक हुआ। जब दुल्हन को पता चला कि दूल्हा नशे में है, तो वह गुस्से से आग-बबूला हो उठी और शराबी दूल्हे के साथ शादी करने से इनकार कर दिया। लड़की के इस साहसी फैसले पर पहले तो परिवार के सदस्य हक्के-बक्के रह गए, लेकिन फिर दूल्हे को नाहक हंगामा करते देख उन्होंने भी समर्थन करते हुए शादी से इनकार कर दिया।

 

थोड़ी देर में ही दोनों पक्षों के लोगों में अफरा-तफरी मच गई। कुछ देर तो मान-मनौवल हुई लेकिन बात नहीं बनी और नौबत मारपीट तक की आ गई। उधर, अपने फैसले पर अटल दुल्हन ने किसी की एक न सुनते हुए अपनी जिंदगी को नशेड़ी के साथ बिताने से साफ इनकार कर दिया। दुल्हन के पक्के इरादे और बहादुरी भरे फैसले की हर किसी ने सराहना की। आखिरकार लड़की पक्ष ने 100 नंबर डायल कर पुलिस को सूचना दी। थाने में काफी जद्दोजहद के बाद दोनों पक्षों में खर्च को लेकर सहमति बनी लेकिन बारातियों को रविवार की सुबह दुल्हन के बगैर उल्टे पांव वापस लौटना पड़ा।

 

Facebook Comments