अगर आप भी हैं दांतो में हो रही कैविटी से है परेशान, यूं पाएं इससे छुटकारा

ये कहना गलत नहीं होगा कि सफेद और सुंदर दांत व्यक्ति की खूबसूरती को और ज़्यादा बढ़ा देते हैं। इनके बिना खाना खाने का कोई मजा नहीं आता। एेसे में दांतों की सही देखभाल करना जरूरी होता है। लेकिन वही देखा जाता है कि कुछ लोग के गलत खान-पान या सही तरीके से दांतों की देखभाल न करने पर इनमें कैविटी यानी कीड़ा लग जाता है। बताना चाहेंगे कि यह किसी भी उम्र के लोगों को हो सकता है।

बता देते है कि कैविटी या कैरीज़, दांतों में होने वाले छोटे सुराख़ या छेद हैं। दरअसल यह जो समस्या दांतों में सड़न के कारण उत्पन्न होती है। डाइट में पर्याप्त मिनरल्स न होना, दांतों की स्वच्छता में कमी और दांतों की सतह पर बैक्टीरिया और प्लाक बनने लगते है। वही प्लाक में मौजूद बैक्‍टीरिया खाने से मिलने वाले शुगर एवं कार्बोहाइडेट को एसिड में परिवर्तित कर देता है। इसी एसिड के कारण दांत खोखले होने लगते हैं जो कैविटी का रुप ले लेते है। ऐसी स्थिति में व्यक्ति को काफी दर्द की शिकायत रहती है। ऐसा देखा जाता है कि कई बार कीड़ा लगने से इतना दर्द होता है कि उसको सहन करना बहुत मुश्किल हो जता है।  वही देखा जाता है कि इस दर्द से छुटकारा पाने के लिए कई लोग दवाइयां और ट्रीटमेंट का सहारा भी लेते हैं। जो की बहुत मंहगा होती है। जानकारी देना चाहेंगे कि एेसे में आप नैचुरल तरीके से भी दांतों में लगे कैविटी को आसानी से हटा सकते हैं। तो चलिए आज जानते हैं उन तरीकों के बारे में-

* प्याज के बीज – दांतों के कीड़े को नष्ट करने के लिए प्याज के बीजों का इस्तेमाल करें। इसके बीजों को चबाने से कीड़े जल्द ही खत्म हो जाते हैं। आप चाहें तो प्याज को बारिक काट कर भी इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। एक कटोरे बारिक कटा प्याज डालकर उसमे इसमें थोड़ा-सा तेल डालकर कम आंच पर गर्म करें। इससे निकलने वाले धुएं को मुंह में लेने से भी कीड़े मर जाते हैं।

* लौंग –  जानकारी देना चाहेंगे कि लौंग न केवल कैविटी से बल्कि दांतों से जुड़ी अन्य कई प्रॉब्लम को दूर रखती हैं। दरअसल इसमें मौजूद एंटी-इंफ्लेमेंटरी, एनाल्‍जेसिक और एंटी-बैक्‍ट‍ीरियल गुण दांतों को हैल्दी रखने में अहम भूमिका निभाते है। कैविटी होने पर आप 1/4 चम्‍मच तिल के तेल में 2 से 3 बूंदें लौंग के तेल की मिलाकर रात को सोने से पहले कॉटन बॉल की मदद से प्रभावित दांत में लगाएं।

* नमक – बताना चाहेंगे कि नमक में एंटीसेप्टिक और एंटीबायोटिक गुण होते है जो दांतों में दर्द, मसूड़ों की सूजन और मुंह में बैक्‍टीरिया कम करने का काम करते हैं। कैविटी होने पर आप ग्रम पानी में एक चम्मच नमक मिलाएं। इसके बाद इस पानी से आप अपने मुंह में कुल्ला करें। ध्यान दे कि आप लगातार दिन में तीन बार इस नुस्खे का इस्तेमाल करें।

* नींबू – आप चाहे तो आधा चम्‍मच नमक में सरसों का तेल और नींबू का रस मिलाकर पेस्‍ट बना लें। फिर इस पेस्‍ट से कुछ मिनटों तक मसूड़ों की मसाज करें। बैक्‍टीरिया को मारने के इसे कुछ दिनों तक दिन में दो बार इस्तेमाल करें।

* ऑयल पुलिंग – वही अगर कैविटी को कम करने के साथ-साथ मसूढ़ों से खून बहना और सांस की बदबू दूर करना चाहते है तो ऑयल पुलिंग बेस्ट ट्रीटमेंट है। आप एक चम्मच तिल के तेल को मुंह में रखें। फिर इसे 20 मिनट तक मुंह में रखकर थूक दें। फिर अपने मुंह को गुनगुने पानी से धो लें। इसके बाद दांतों को ब्रश करें। यह उपाय रोजाना सुबह खाली पेट करें।

* लहसुन –  कैविटी से लेकर दांत दर्द से राहत दिलाने के लिए यह काफी असरदार नुस्खा है। आप 3 से 4 लहसुन की कलियां लेकर क्रश करें और इसमें 1/4 चम्‍मच सेंधा नमक मिलाकर संक्रमित दांत पर 10 मिनट लगाकर छोड़ दें। कुछ दिनों तक इस उपाय को दिन में दो बार करें।

* मुलेठी –  इतना ही नहीं आप रोजाना दांतों में ब्रश करने के लिए मुलेठी की जड़ के पाउडर का प्रयोग करें। या इसके अलावा आप टूशब्रश करने के लिए मुलेठी की स्‍टीक का इस्‍तेमाल करें। इससे दांतों से जुड़ी हर तरह की समस्या दूर रहेगी।

* हल्दी – ऐसा कहा जाता है कि कैविटी दर्द से राहत दिलाने में हल्दी काफी मददगार साबित होती है। बता दे कि इसमें मौजूद एंटी-बैक्‍टीरियल एंटी-इंफ्लेमेंटरी गुण मसूड़ों को स्‍वस्‍थ व बैक्‍टीरियल संक्रमण से बचाए रखते है। प्रभावित दांत पर थोड़ी सा हल्‍दी पाउडर लगाकर कुछ मिनट के लिए ऐसे ही रहने दें। फिर गुनगुने पानी से कुल्‍ला करें।

* नीम – खास बात ये है कि कैविटी से बचाने के अलावा नीम दांतों और मसूड़ों को स्‍वस्‍थ और मजबूत बनाने में भी मददगार है। प्रभावित दांत पर नीम के पत्तों का रस रगड़ें और कुछ मिनट ऐसे ही रहने दें। फिर गुनगुने पानी से कुल्ला कर लें।

* नारियल का तेल – बता दे कि कीड़ा लगे दांतों में तेल भरना सबसे बेस्ट घरेलू तकनीक है। इसके लिए आप नारियल तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। 1 चम्मच तेल को अपने मुंह में कम से कम 20 मिनट तक रखें। इसके बाद कुल्ला करें और ब्रश कर लें। कुछ दिनों तक एेसा करने से आपको खुद ही फर्क दिखाई देने लगेगा।

Facebook Comments