एक लड़के ने पावरफुल चार्जर,कबाड़ के इस्तेमाल से बनाया…..

 छत्तीसगढ़ में दंतेवाड़ा जिले के रहने वाले प्रेम भारद्वाज ने कबाड़ का इस्तेमाल कर एक ऐसा इमरजेंसी चार्जर बनाया है। जो न तो कभी खराब होगा और न ही कभी इसके पार्ट्स बदलने होंगे। इसे चार्ज करने में महज 2 घंटे लगेंगे।  इस मोबाइल चार्जर की खासियत यह है कि इसे इलेक्ट्रिसिटी और सोलर पावर की भी जरूरत नहीं पड़ेगी। मोबाइल को इस चार्जर से कनेक्ट कर सीधे चार्ज कर सकते हैं।
प्रेम ने बताया कि जब हम इस डिवाइस में लगे पहिए को उसमें लगे एरो के निशान की ओर हैंडल को घुमाते हैं, तो उसमें लगा बेल्ट छोटे पहिए को घुमाता है। छोटे पहिए में कनेक्ट गियर बॉक्स से निकलने वाली मैकेनिकल एनर्जी को एक मोटर के जरिए इलेक्ट्रिकल एनर्जी में कनवर्ट कर देता है।
इस इलेक्ट्रिकल एनर्जी को एक डिवाइस के जरिए मोबाइल में लगी बैटरी को चार्ज किया जाता है। इसमें लगा गियर बाॅक्स इस डिवाइस में अहम भूमिका निभाता है। प्रेम के पिता महेंद्र भारद्वाज ठेका श्रमिक हैं। ऐसे में आर्थिक स्थिति इतनी मजबूत नहीं है कि अतिरिक्त कार्यों में पैसे लगा सकें।
बचेली निवासी प्रेम एनएमडीसी डीएवी आईटीआई में डीजल मैकेनिक ट्रेड में ट्रेनी हैं। बेटे की सफलता से पिता काफी खुश हैं। उन्होंने बताया कि प्रेम को बचपन से ही नए माॅडल तैयार करने का शौक है।
किसी भी काम को करने जुनून इतना है कि जब तक सफल नहीं होता चैन की नींद नहीं सोता। यह कभी वर्कशॉप का हिस्सा नहीं बना, छोटे मोटे टूल्स, कबाड़ के सामानों का उपयोग कर नए माॅडल तैयार करता है। प्रेम के पिता ने बताया कि अफसोस यही होता है बेटा बहुत कुछ करना चाहता है, उसे आगे बढ़ाना चाहता हूं पर आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने के कारण चाहकर भी ज्यादा मदद नहीं कर पा रहा हूं।
Facebook Comments