कैशलेस हुआ छत्तीसगढ़ , आरबीआई से मांगे 500 करोड़…..

छत्तीसगढ़ सरकार को 1 मई को कर्मचारियों को वेतन देने के लिए लगभग 200 करोड़ की आवश्यकता होगी,  इसलिए बैंकों ने आरबीआई से 500 करोड़ रुपए की मांग तो की ही है, साथ ही खुद से भी 150 करोड़ रु का इंतेज़ाम करने में जुट गई है. आपको बता दें कि इस वक़्त देश में कैश कि भारी कमी चल रही है, एटीएम से लेकर कई बैंकों के पास धन की कमी आ गई है. ऐसे में इसकी भरपाई करने के लिए आरबीआई ने 200, 500 और 2000 के नोटों की छपाई  का कार्य युद्ध स्तर पर शुरू कर दिया है.

सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री रमन सिंह ने आला अधिकारीयों को निर्देश दिए थे कि बैंकों को वेतन का इंतज़ाम करने की सुचना दी जाए, जिसके बाद बैंकों ने आर बी आई से इस सम्बन्ध में पैसे भेजने का आग्रह किया था , बताया जा रहा है कि रमन सरकार के इस कदम से छत्तीसगढ़ में 3 लाख कर्मचारियों व 1.85 लाख शिक्षाकर्मियों को 1 मई को मिलने वाले सैलरी में कोई दिक्कत नहीं होगी. वहीं जानकारी मिली है कि रिजर्व बैंक अपनी पहली खेप 50 करोड़ की भेजेगा. बाकी के पैसे टुकड़ों में 30 अप्रैल से पहले भेजे जा सकते हैं.

पैसों का आभाव झेल रही छत्तीसगढ़ सरकार ने अपने कर्मचारियों को वेतन देने के लिए रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया से मदद मांगी है. छत्तीसगढ़ में करीब 5 लाख कर्मचारियों का वेतन, सरकार के पास धन न होने के कारण  अटका पड़ा है, इसीलिए छत्तीसगढ़ सरकार ने आरबीआई से 500 करोड़ रूपए की मांग की है.

 

 

Facebook Comments