रोज पीते हैं इतनी सिगरेट तो तुरंत हॉस्पिटल जाएं…..

सब जानते हैं कि सिगरेट पीने से कैंसर होता है फिर भी कुछ लोग कहते हैं अरे मैं तो बहुत कम पीता हूं, ये खबर उनके लिए ही है।

डब्ल्यूएचओ ने यह सलाह ब्रेन स्ट्रोक, लंग कैंसर, ब्रेन कैंसर और हृदय संबंधी बीमारी को नियंत्रित करने के लिए दी है। आंबेडकर अस्पताल की कैंसर रिसर्च यूनिट में आने वाले 10-15 फीसदी मरीज स्मोकर होते हैं। नई गाइड लाइन आने के बाद डॉक्टर ऐसे मरीजों की काउंसिलिंग की तैयारी में जुट गए हैं।

सिगरेट से कैंसर समेत अन्य रोग होने की चेतावनी के बावजूद इसका सेवन करने वाले लोगों की संख्या घट नहीं रही। कैंसर रोग विशेषज्ञ डॉ. प्रदीप चंद्राकर ने बताया कि एक सिगरेट पीने से एक व्यक्ति के ब्लड में 0.35 मिलीग्राम निकोटिन चला जाता है।

 

यह स्वास्थ्य के लिए काफी खतरनाक है। इसी तरह रोजाना 5 सिगरेट पीने से ब्लड में निकोटिन की मात्रा बढ़कर 3.5 मिलीग्राम हो जाती है। इसके बाद ब्लड में निकोटिन की मात्रा बढ़ती जाती है। इससे लंग कैंसर, ब्रेन स्ट्रोक और ब्रेन कैंसर जैसी बीमारियां जन्म लेने लगती हैं। ये बीमारी व्यक्ति को लाचार बना देती है।

54 हजार लोगों पर रिसर्च :

रोज 5 सिगरेट पीने वालों को साल में एक बार सीटी स्कैन जरूर करवाना चाहिए।  रोज 5 सिगरेट पीने वाले को कैंसर होने के 100% चांस होते हैं।  विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कैंसर के बारे में नई गाइड लाइन जारी की है। इसमें डॉक्टरों से कहा गया है कि वे क्लीनिक में आने वाले मरीजों की काउंसलिंग कर उन्हें सिगरेट के नुकसान के बारे में बताएं।

आंबेडकर अस्पताल के कैंसर रोग विशेषज्ञ डॉ. चंद्राकर ने बताया कि सिगरेट नहीं पीने वाले व्यक्ति की तुलना में औसतन 5 सिगरेट रोजाना पीने वाले व्यक्ति को लंग कैंसर होने का खतरा ज्यादा रहता है। इसकी पुष्टि नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट अमेरिका के डॉक्टरों ने 54 हजार स्मोकर्स पर रिसर्च के बाद की है। रिपोर्ट में डॉक्टरों ने सिगरेट पीने वाले 27 हजार लोगों के सीने के एक्सरे लिए और 27 हजार के सीटी स्कैन। सीटी स्कैन कराने वाले मरीजों के फेफड़ों में कैंसर पहली और दूसरी स्टेज में मिला, जबकि एक्सरे कराने वाले स्मोकर्स में फेफड़े के कैंसर का पता लास्ट स्टेज में चला, जो कि खतरनाक है।

 

Facebook Comments