नारियल की खेती की तैयारी राजस्थान में की जा रही जा रही है…..

इस बारे में कृषि मंत्री प्रभुलाल सैनी का कहना है कि शुरुआत में दो-दो हैक्टेयर क्षेत्र में नारियल और सुपारी की पैदावार की जायेगी. इसके लिये राजस्व विभाग द्वारा बीसलपुर के तल क्षेत्र टोंक के थलोड़ी में जमीन आवंटित की जाकर अन्य तैयारियां की जा रही है .केरल स्थित आईसीएआर के रिसर्च सेंटर से नारियल के 400 पौधे भी मंगवाए जा चुके हैं. इस नए प्रयोग के लिए सरकार ने 10 करोड़ के बजट का प्रावधान किया है.

कृषि के क्षेत्र में राजस्थान एक नया प्रयोग करने जा रहा है. आमतौर पर केरल की उपज माने जाने वाले नारियल की फसल अब राजस्थान में भी लेने की तैयारी की जा रही है.इसके लिए न केवल अधिकारियों को केरल भेजकर प्रशिक्षित किया गया, बल्कि 400 पौधे भी मंगवा लिए हैं.

बता दें कि राजस्थान अब अपने यहाँ भी नारियल की फसल का लाभ लेना चाहता है इसके लिए नवाचार किया जा रहा है.दक्षिण भारत के नम भूमि इलाके में पैदा होने वाले नारियल और सुपारी अब मरुभूमि राजस्थान में भी पैदा होंगे.इस लक्ष्य को पाने के लिए पहले सरकार ने नारियल और सुपारी की खेती की तकनीक जानने के लिये अपने अधिकारियों के एक दल को केरल भेजा था, जहाँ से वे प्रशिक्षण हासिल कर लौटे.

 

Facebook Comments