अंबानी की ऐसी नजर पड़ी कि आज करोड़पति बना ये लड़का….

मुंबई के एक लड़के के साथ कुछ ऐसा हुआ है।इस बार मुंबई इंडियंस ने इशान को 6.25 करोड़ रूपये में खरीदा है। इस सीजन इशान ने मुंबई इंडियंस के लिए तीन मैच में 93 रन का योगदान दिया। मुंबई इंडियंस टीवी से बात करते हुए इशान किशन के माता-पिता और कोच ने इशान के क्रिकेट करियर के बारे में खुलकर बात की।

सीनियर खिलाड़ी ने दिया था सुझाव :  इशान के पिता प्रणव पांडे ने बताया कि जब इशान को उत्तम जी के पास लेकर गए तो,उससे दो-तीन दिन तक खेला। इसके बाद उत्तम जी (कोच) ने कहा कि इसको खेलाइयेगा,कोई खेल छोड़ने को बोले तो मत छुड़ाना। ये इंडिया के लिए खेलेगा। सीनियर खिलाड़ी ने सुझाव दिया था कि ये बढ़िया खेलता है,इसे रांची भेज दीजिए।

गलती होने पर पड़ती थी डांट :  इशान किशन की प्रतिभा के बारे में बात करते हुए उनके कोच उत्तम ने बताया कि अंडर-14 के बच्चे को हमने चांस दिया। रोजाना उत्तम मजूमदार, इशान किशन को रोजाना 200 बॉल खेलवाते थे। कुछ भी गलत होने पर डांट पड़ती थी । किशन के कोच ने एक घटना का जिक्र करते हुए कहा, कि “एक बार एक तेज गेंदबाज की गेंद उसके हेलमेट के अंदर घुस गई और उससे इशान की नाक में काफी चोट आ गई थी। एक समय था जब वो काफी संघर्ष कर रहा था और एक छोटे से कमरे में रहता था।”

बचपन से ही था साहसी :  इशान किशन की मां का नाम सुचित्रा सिंह हैं। अपने बेटे की उपलब्धि और अतीत के दिनों का जिक्र करते हुए सुचित्रा ने कहा कि, “वह बचपन से ही काफी साहसी था। कभी भी उसे चोट लगी तो वो उधर से ही हॉस्पिटल गया और फिर वापस आकर बैटिंग की।”

चिप्स कोल्ड ड्रिंक के सहारे गुजारी रात : इशान किशन ने भी अपने संघर्ष के दिनों के बारे में बात किया। इशान किशन ने अपनी ़डाइट के बारे में बात करते हुए कहा कि “उन दिनों डाइट के साथ यह प्रॉब्लम थी कि एक दिन मैच खेलना पड़ता था और दूसरे दिन पढ़ाई के लिए यात्रा करनी पड़ती थी।”

इशान किशन ने बताया कि जब मैं बिहार से खेलता था,वहां काफी कोच थे और उन्होंने मेरे डैड से कहा था कि कभी कुछ भी हो जाए इसे क्रिकेट छोड़ने मत देना। एक समय ऐसा था जब हम काफी यात्रा करते थे और रात को कोल्ड ड्रिंक और चिप्स खाकर ही सो जाते थे।  डैड के पूछने पर झूठ बोल देते थे।

 

Facebook Comments