कॉलेजों में दाखिले के नाम पर ठगी,डीआइजी के खिलाफ गिरफ्तारी का आदेश जारी…

संदीप बनर्जी ने बताया है कि बिगलाल उरांव के खिलाफ कोर्ट की ओर से गैरजमानतीय गिरफ्तारी वारंट निर्गत है, लेकिन पूर्व आइपीएस अधिकारी होने की वजह से पुलिस उन्हें गिरफ्तार नहीं कर रही है। शिकायत में यह आरोप भी लगाया गया है कि पूर्व डीआइजी ने खुद को एसीबी अधिकारी बताकर युवाओं को पुलिस में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी की है। कई से बीएड कॉलेज व अन्य कॉलेजों में दाखिले के नाम पर ठगी की है।

रांची रेंज के डीआइजी के पद से रिटायर हुए बिगलाल उरांव की गिरफ्तारी का आदेश सीएम सचिवालय की ओर से जारी किया गया है। सीएम सचिवालय ने गृह विभाग के नोडल पदाधिकारी को गिरफ्तारी आदेश देते हुए रिपोर्ट देने का भी निर्देश दिया है। यह आदेश सर्व जन चेतना (एक गैर सरकारी संगठन) के संदीप बनर्जी की शिकायत के बाद दिया गया है।

इन शिकायतों की जांच के लिए सीएम सचिवालय की ओर से 40 पत्राचार किए गए। कई जांच रिपोर्ट सौंपी गई। इसके बाद सीएम सचिवालय ने डीआइजी के खिलाफ गिरफ्तारी आदेश जारी किया है। हालांकि इस आदेश के बाद भी डीआइजी को गिरफ्तार करने की जहमत अरगोड़ा थाना पुलिस नहीं उठा रही है।

‘पूर्व आइपीएस अधिकारी बिगलाल उरांव की गिरफ्तारी का वारंट कोर्ट से प्राप्त हुआ है। उनके पते पर छापेमारी किए जाने पर वह नहीं मिले थे, इस वजह से वारंट कोर्ट को लौटा दिया गया है। साथ ही कोर्ट से कुर्की जब्ती की कार्रवाई के लिए अनुरोध किया गया है।’

Facebook Comments