टैक्सी-ऑटो के लिए कमर्शियल ड्राइविंग लाइसेंस की जरूरत समाप्त…..

Govt  ने कमर्शियल टैक्सी और ऑटो चलाने वाले करोड़ों लोगों को बड़ी राहत देने का फैसला किया है। अब निजी ड्राइविंग लाइसेंस के जरिए भी कमर्शियल गाड़ियां जैसे कि ई-रिक्शा, बाइक, तिपहिया और छोटे लोडर वाहन चलाए जा सकेंगे। 

हालांकि सरकार ने ट्रक बस और अन्य हैवी कमर्शियल वाहनों को चलाने के लिए पहले की तरह कमर्शियल ड्राइविंग लाइसेंस लेना होगा। सरकार ने ये कदम इसलिए उठाया है क्योंकि जुलाई 2017 में सुप्रीम कोर्ट ने ऐसा करने के लिए आदेश दिया था। बता दें कि सरकार के इस कदम लाखों लोगों को रोजगार मिल सकेगा। अभी तक कमर्शियल ड्राइविंग लाइसेंस ना होने की वजह से लोग इस तरह के कारोबार में नहीं आ पाते थे।

कमर्शियल ड्राइविंग लाइसेंस पाने के लिए लोगों को कम से कम एक साल का इंतजार करना पड़ता था। सरकार को उम्मीद है कि इस कदम से आरटीओ ऑफिस में फैले करप्शन पर भी रोक लगेगी। हालांकि सरकार के इस कदम से पहले से बेहाल सड़कों पर गाड़ियों की संख्या काफी बढ़ जाएगी, क्योंकि ऐसी गाड़ियों को चलाने वाले लोग काफी संख्या में वाहन लेकर निकलेंगे।

सरकार का मानना है कि इससे सड़क पर निजी वाहन कम होंगे, और टैक्सी-ऑटो की अवेलबिलिटी काफी बढ़ जाएगी। अभी भी देश के छोटे-बड़े शहरों में ई-रिक्शा और ऑटो की काफी संख्या हो गई है, जिसके चलते अक्सर जाम लगता रहता है।

 

Facebook Comments