सावधान: सेहत के लिए ‘जहर’ जैसा है चीनी !

दरअसल मोटापे की वजह से शरीर में कई प्रकार के मेटाबोलिक और हार्मोनल बदलाव होते हैं, जिनसे इंसुलिन का प्रतिरोध बढ़ जाता है और पेंक्रियाटिक सेल्स निष्फल होने लगते हैं। जिससे रक्त-शर्करा को नियंत्रित करने के लिए, जितना इंसुलिन शरीर में चाहिए, उत्पादन उससे कम होने लगता है।

चीनी का स्वाद जितना मीठा होता है वह हमारे सेहत के लिए उतना की कड़वा होता है। एक रिपोर्ट के मुताबिक चीनी खाने से हमारे शरीर पर नाकारत्मक प्रभाव पड़ता है और ये हमारे लिए किसी जहर से कम नहीं है। चीनी के इन प्रभाव के मद्देनजर इसे नई तरह की तंबाकू भी कहा जाने लगा है। रिसर्च के मुताबिक चीनी एक का नशा है। हमें इसकी तलब महसूस होती है। दरअसल कई बार हमें चाय की तलब लगती है लेकिन ये चाय नहीं बल्कि चीनी की तलब होती है और हम चाय के रूप में चीनी का सेवन कर लेते हैं।

चीनी की वजह से होती है ये बीमारियां…

– डायबिटीज जिसे हम शुगर और मधुमेह के नाम से जानते हैं इसका सीधा संबंध चीनी है। ज्यादा चीनी के सेवन से शरीर में मोटापा आता है और इससे मधुमेह की संभावना बढ़ जाती है। दरअसल मोटापे की वजह से शरीर में कई प्रकार के मेटाबोलिक और हार्मोनल बदलाव होते हैं, जिनसे इंसुलिन का प्रतिरोध बढ़ जाता है और पेंक्रियाटिक सेल्स निष्फल होने लगते हैं। जिससे रक्त-शर्करा को नियंत्रित करने के लिए, जितना इंसुलिन शरीर में चाहिए, उत्पादन उससे कम होने लगता है।

– ज्यादा चीनी खाने वालों में हाई ट्रायग्लिसरॉयड और लो एचडीएल कोलेस्टेरॉल की शिकायत हो जाती। दरअसल एचडीएल शरीर के लिए जरूरी कोलेस्टेरॉल है, जो हृदयाघात से रक्षा करता है। इसमें गड़बड़ी का मतलब हार्ट अटैक को आमंत्रण देने जैसा है।

– चीनी सेवन करते हैं तो फ्रक्टोस सीधे लीवर में जाता है। फ्रक्टोस शरीर के लिए जरूरी है लेकिन यदि अगर हम मेहनत नहीं करते हैं तो लीवर फ्रक्टोस को चर्बी में बदल देता है। जिससे नॉन-अल्कोहलिक चर्बी लिवर रोग हो जाता है। जो आगे चलकर यकृत सिरोसिस व यकृत कैंसर में भी बदल सकता है।

– चीनी में  ‘रिक्त’ कैलोरी पाई जाती हैं। इसमें कोई प्रोटीन, आवश्यक चर्बी, विटामिन या खनिज नहीं होते हैं। दांतों के लिए चीनी बहुत खराब होती है, क्योंकि यह मुंह में मौजूद बैक्टीरिया को ‘रिक्त’ कैलोरी के रूप में ऊर्जा उपलब्ध कराती है जिससे दांत खराब होने की आशंका रहती है। इसीलिए सलाह दी जाती है कि मीठा खाने के बाद कुल्ला जरूर करें।

– चीनी की वजह से दिमाग से डोपामाइन रिलीज होता है जिससे इसकी तलब महसूस होती है। इसकी वजह से जो लोग चीनी का सेवन करते हैं, उनका वजन बढ़ने की आशंका अधिक होती है क्योंकि अंजाने में उन्हें यह लत लग चुकी होती है।

Facebook Comments