CREDIT CARD पर लगने वाले है ये 5 चार्ज….

 

कोई भी क्रेडिट कार्ड लेते समय हमेशा उसके ऐनुअल चार्ज के बारे में जरूर जान लें। कभी-कभी इसे पूरी तरह या एक सीमित समय अवधि के लिए माफ़ किया जा सकता है। आमतौर पर एक फ्री क्रेडिट कार्ड पर इस तरह का चार्ज नहीं लगता है। कुछ कार्ड पर दूसरे साल से यह चार्ज लग सकता है। 

अब CREDIT CARD का यूज भी उतना ही बढ़ गया है, जितना DEBIT CARD का। पर क्या आप जानते हैं कि इस पर आपसे कितने तरह के चार्ज वसूले जाते हैं। हम बता रहे हैं।

तो सबसे पहले बता दें कि क्रेडिट कार्ड पर ATM से नकद पैसे निकालने की सुविधा मिलती है, लेकिन यह सेवा मुफ्त नहीं है। नकद पैसे निकालने पर लगभग 2.5% चार्ज लगता है। पैसे निकालने की तारीख से 24% से 46% प्रति वर्ष की दर से उस पर ब्याज भी लगता है। इसलिए इसका इस्तेमाल हमेशा अंतिम उपाय के तौर पर ही किया जाना चाहिए।

क्रेडिट कार्ड बिल में कुल देय राशि और न्यूनतम देय राशि का उल्लेख होता है, जो कुल देय राशि का लगभग 5% होता है। इन दोनों चार्ज के बारे में ठीक से ना समझने पर आप कर्ज के जाल में फंस सकते हैं। कई लोग अक्सर सिर्फ न्यूनतम देय राशि का ही भुगतान करते हैं और शेष राशि का भुगतान पेंडिंग छोड़ देते हैं। इस मासिक ब्याज दर को वार्षिक रूप में बदलने पर APR या वार्षिक प्रतिशत दर 36% से 38% तक पहुंच जाता है, जो किसी भी लोन के लिए अत्यंत अधिक है।

क्रेडिट कार्ड के बिल का पेमेंट करने में देरी होने पर पेनल्टी भी लग सकती है। जब ग्राहक देय तिथि तक अपने मासिक क्रेडिट कार्ड बिल का पेमेंट नहीं करता है, तब यह चार्ज लगता है। इस लेट पेमेंट चार्ज में एक फ़्लैट लेट पेमेंट चार्ज, ब्याज और उस ब्याज पर लगने वाला GST चार्ज भी शामिल होता है।

 

GST लागू होने से पहले क्रेडिट कार्ड से जुड़ी सेवाओं पर 15 प्रतिशत की दर से टैक्स लिया जाता था। GST लागू होने के बाद से यह 3 प्रतिशत बढ़ गया है, जिससे क्रेडिट कार्ड कंपनियां अब 18 प्रतिशत चार्ज लेने लगी हैं। आपको पता होना चाहिए कि GST लागू होने के बाद से ब्याज या लेट पेमेंट चार्ज पर ज्यादा टैक्स लगेगा।

 

Facebook Comments