पिच से नाराज हुए रवि शास्त्री बताया धोखेबाज….

भारत और एसेक्स के बीच 4 दिन का प्रैक्टिस मैच में अब 3 दिन का होगा। पिच पर घास होने और खराब आउटफील्ड के कारण दोनों पक्षों ने यह फैसला लिया। पिच पर नजर डालने के बाद भारतीय टीम प्रबंधन ने मंगलवार दोपहर के प्रैक्टिस सत्र के दौरान वक्त घटाने की बात कही। हालांकि, इस मामले में अब तक कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है, लेकिन बताया जा रहा है कि भारतीय कोच रवि शास्त्री ने जैसे ही पिच पर घास और खराब आउटफील्ड को देखा उन्होंने तुरंत स्थानीय अधिकारियों से चर्चा की। खराब आउटफील्ड के कारण खिलाड़ी चोटिल हो सकते हैं।

 

ग्राउंड स्टाफ ने भारतीय टीम मैनेजमेंट की बात मानीः इसके बाद टीम इंडिया के अन्य सपोर्टिंग स्टाफ ने परिस्थितियों को परखा। इनमें सहायक कोच संजय बांगर और गेंदबाजी कोच भरत अरुण भी थे। इन सभी को ग्राउंड स्टाफ से चर्चा करते देखा गया। ग्राउंड स्टाफ के एक वरिष्ठ सदस्य ने नाम जाहिर न होने की शर्त पर समाचार एजेंसी को बताया कि भारतीय टीम प्रबंधन की सभी मांगों को मान लिया गया है। चूंकि इस मुकाबले को फर्स्ट-क्लास मैच का दर्जा नहीं दिया गया है, इसलिए यह तय है कि इसमें भारतीय टीम अपनी टेस्ट टीम के सभी 18 सदस्यों का इस्तेमाल करेगा।

 

भारत के फैसले से मेजबान निराशः जब उनसे जोर देकर पूछा गया कि क्या टीम इंडिया ने पिच से घास हटाने की भी मांग की थी, उन्होंने बस इतना ही कहा, “भारतीय टीम प्रबंधन की मांगों को पूरा करने के लिए हम थोड़ा पीछे हटे हैं। हालांकि यह निराशाजनक है, क्योंकि हमने चौथे दिन के लिए बहुत सारे टिकट बेचे थे।” भारतीय टीम प्रबंधन की नाखुशी का एक कारण यह भी था कि मैच विकेट की तुलना में दो नेट्स के लिए इस्तेमाल की जाने वाली पिचों पर घास पूरी तरह से गायब थी। विजिटंग कोचेस से बात करने के बाद ग्राउंड स्टाफ ने विकेटों के आसपास की घास हल्की कर दी, ताकि यह मैच विकेट की तरह दिख सके।

Facebook Comments