तमिल संगठन के 2 कार्यकर्ता गिरफ्तार,IPL मैच में खिलाड़ियों पर फेंके गए जूते…..

IPL MATCH के दौरान चेन्नई के M.A चिदंबरम स्टेडियम में तमिल संगठन के कुछ कार्यकर्ताओं ने खिलाड़ियों पर जूते उछाले। चेन्नई मैच के दौरान हुई इस घटना में जूता लॉन्ग ऑन पर फील्डिंग कर रहे रवींद्र जाडेजा को लगते-लगते बचा।

पीली जर्सी पहने 2 कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया है। बता दें कि कई तमिल संगठन कावेरी जल विवाद की वजह से आईपीएल मैचों को चेन्नई में नहीं होने देना चाहते। इसलिए कई कार्यकर्ताओं ने मैच से पहले स्टेडियम के बाहर प्रदर्शन भी किया। बता दें कि आईपीएल के विरोध में तमिझागा वाझवुरिमाइ काची, नाम तामिझार और विदुथलाई चिरुथाइगल जैसे संगठनों के कार्यकर्ताओं ने एमए चिदंबरम स्टेडियम के बाहर धरना देने की भी कोशिश की।

पुलिस ने करीब 350 कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार भी किया। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, आईपीएल मैच के विरोध में टीवीके कार्यकर्ताओं ने चेन्नई सुपर किंग्स की पीली जर्सी और आईपीएल के टिकट तक जला डाले। कई लोगों ने केंद्र और राज्य सरकार के विरोध में नारेबाजी की। सुरक्षा के मद्देनजर स्टेडियम के बाहर 4 हजार पुलिसकर्मी तैनात किए गए थे।

दरअसल, इसका मामला ये है कि सुप्रीम कोर्ट ने कावेरी के पानी के सही बंटवारे के लिए 16 फरवरी के फैसले में केंद्र को 29 मार्च तक कावेरी मैनेजमेंट बोर्ड का गठन करने के आदेश दिए थे। कोर्ट का कहना था कि उसके आदेश का सही पालन हो, उसके लिए जरूरी है कि केंद्र सरकार एक मैनेजमेंट बोर्ड बनाए। जिसको बनाने में देरी के चलते कई तमिल संगठन सरकार के विरोध में सड़कों पर आ गए हैं।

 बता दें कि कावेरी मैनेजमेंट बोर्ड के गठन में देरी के लिए तमिलनाडु में लगातार प्रदर्शन हो रहे हैं। 8 अप्रैल को तमिल फिल्म इंडस्ट्री ने भी मौन व्रत कर विरोध जताया। सुपरस्टार रजनीकांत और कमल हासन समेत कई फिल्मी हस्तियां इसमें शामिल हुईं हैं।

इसके साथ ही बता दें कि रजनीकांत ने मोदी सरकार को चेतावनी देते हुए कहा था कि जब तक केंद्र तमिल जनता की मांग नहीं मान लेती, उन्हें विरोध का सामना करना पड़ेगा। साथ ही उन्होंने कहा कि आईपीएल के मैचों में चेन्नई सुपरकिंग्स को भी विरोध के तौर पर काले बैज लगाकर खेलना चाहिए।

 

Facebook Comments