बढ़ सकती हैं प्राकृतिक आपदा…डायनों से हारे देवी-देवता, अब बढ़ेगी अल्पमृत्यु की घटनाएं

आगामी एक वर्ष में प्रदेश में प्राकृतिक आपदाओं और भूकंप आदि का दौर जारी रहेगा, जिसके कारण जनमानस को खासी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। साथ ही, आने वाले समय में प्रदेश में लोगों की अल्पमृत्यु का भय भी लगातार बढ़ने की भविष्यवाणी की गई है। यह भविष्यवाणी गुरुवार रात को मंडी जिला के सेहली स्थित माता बगलामुखी मंदिर की वार्षिक जाग में दस महाविद्याओं में 8वें स्थान की देवी बगलामुखी के द्वारा की गई है। ऐसी मान्यता है कि भादो के महीने में देवी-देवताओं के मंदिरों के कपाट बंद हो जाते हैं और वे डायनों से युद्ध करने डायनाबाड़ चले जाते हैं। साथ ही, भादो महीने के अंत तक ज्यादातर मंदिरों में जाग का आयोजन किया जाता है, जहां पर देवी-देवता अपने गुर के माध्यम से 1 महीने तक चले क्रिया-कलापों के बारे में जानकारी देते हैं।
PunjabKesari

इस बार के वृतान्त के बारे में जानकरी देते हुए माता बगलामुखी मंदिर सेहली के पुजारी अमरजीत शर्मा ने बताया कि इस बार डायनों और देवी-देवताओं के बीच में 7 युद्ध हुए, जिसमें से डायनों ने 4 पर जीत हासिल की और देवता केवल 3 युद्ध ही जीत पाने में कामयाब हो सके। डायनों और देवताओं की हार-जीत के बाद ही आगामी वर्ष की भविष्यवाणी होती है। इस बार डायनों के जीत जाने से लोगों को बीमारियों, प्राकृतिक आपदाओं और भूकंप जैसी घटनाओं से दो-चार होना पड़ेगा। वहीं, प्रदेश में लोगों की अल्पमृत्यु होने की भी भविष्यवाणी माता के द्वारा की गई है।
PunjabKesari

पुजारी बताते हैं कि डायनों के जीत जाने से फसलों की अच्छी पैदावार होती है, लेकिन लोगों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। पुजारी के अनुसार, अगर देवता जीतते हैं तो लोगों को लाभ होता है, लेकिन डायनों के कोप से फसलों के तबाह होने का खतरा भी बढ़ जाता है। इस भविष्यवाणी से पहले रात 12 बजे तक माता के मंदिर में भजन-कीर्तनों का दौर जारी रहा, जिसमें स्थानीय लोगों ने बढ़-चढ़ कर भाग लिया। इसके बाद माता के छर्नाटों को खेल आई व देवी ने अपने गुर के माध्यम से युद्धों का विस्तार सुनाया और आगामी वर्ष के लिए भविष्यवाणी की।

Facebook Comments