E-Bomb तकनीक पर यदि कामयाब हो गया भारत तो घुटने टेकने पर मजबूर होगा दुश्‍मन

बदलते दौर में जिस तेजी से रक्षा तकनीक में बदलाव आया है उसको देखते हुए हर देश अपनी सुरक्षा के लिए लगातार बेहतर करने की कोशिशों में लगा हुआ है। अमेरिका, चीन, रूस समेत दुनिया के सभी विकसित देश पहले ही काफी मजबूत स्थिति में है। ऐसे में भारत भी अपनी सुरक्षा के नए आयाम तलाश करने में लगा है। भारत के इस नए आयाम का नाम है ई-बम। यह घातक होने के साथ ही दुश्‍मन को हमारे सामने घुटने टेकने पर मजबूर कर देगा। डीआरडीओ इस तकनीक पर काफी लंबे समय से काम कर रहा है। इतना ही नहीं भारत इस तकनीक पर काम करने वाला फिलहाल एशिया का पहला देश है। इसके अलावा अमेरिका में भी इस तकनीक पर काम हो रहा है।

अमेरिका बना रहा चैंप 

आपको बता दें कि अमेरिका ने अपने इस हाईटैक वैपन प्रोजेक्‍ट का नाम चैंप दिया है। इसकी खासियत यह है कि वैपन इंसान को नुकसान पहुंचाए बिना अपना काम करेगा। इसका टारगेट केवल कुछ मशीनें होंगी। दरअसल, यह वही तकनीक है जिस पर भारत भी काम कर रहा है। इस हाईटेक डिफेंस सिस्‍टम का नाम इलैक्‍ट्रोमैगनेटिक पल्‍स वैपन सिस्‍टम है। यह हथियार भविष्‍य में युद्ध की तस्‍वीर को पूरी तरह से बदल कर रख देगा।

कैसे करेगा काम 

इसमें एक ड्रान टाइप वैपन खास इमारतों के ऊपर से गुजरता हुआ एक मैगनेटिक फील्‍ड बनाता है। इसके सहारे एक करंट छोड़ा जाता है जिससे इमारत में रखे सभी इलैक्‍ट्रोनिक सिस्‍टम जिसमें कंप्‍यूटर भी शामिल होता है, काम करना बंद कर देता है। यह वैपन सेना और सरकार की मदद के लिए साबित होने वाली उन तमाम चीजों को पंगु बना देता है जिनसे जानकारी लेकर वह आगे का फैसला करते हैं या अपनी रणनीति बनाते हैं। ईएमपी वैपन सिस्‍टम वास्‍तव में सेना और सरकार की मदद कर रहे कंप्‍यूटर के लिए घातक साबित होता है। यह हवा में रहते हुए ही उन तमाम सिस्‍टम को पूरी तरह से नाकाम बना देता है जो सेना और सरकार की रणनीति बनाने में सहायक साबित हो सकते हैं। इसको यदि दूसरे शब्‍दों में कहा जाए तो कंप्‍यूटर के नाकाम हो जाने के बाद सैटेलाइट से इनका कनेक्‍शन खत्‍म हो जाता है।

Facebook Comments