टॉयलेट के लिए मांगी भीख इज्जत स्वच्छता के लिए किया यह काम अब दुनिया कर रही है इन्हें सलाम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छता अभियान का असर बिहार की गरीब महिलाओं पर भी पड़ा हाल ही में गोपालगंज की 2 गरीब महिलाओं ने अपने हौसले के बल पर भीख के पैसों से अपने-अपने घरों में शौचालय बनवाए ताजा मामला बेगूसराय के एक दिव्यांग दंपति का है बे भी शौचालय बनवा रहे हैं दोनों मामलों में शौचालय बनवाने वालों ने अपने काम को स्वच्छता और अपनी इज्जत से जोड़ा है उन्होंने कहा कि अपनी इज्जत के लिए घर में शौचालय बनवाना बहुत जरूरी है यह स्वास्थ्य और स्वच्छता के लिए भी आवश्यक है

हौसला हो तो धन की कमी भी दूर हो जाती है

दिव्यांग दंपति भीख मांगकर बनवा रहे शौचालय

स्वच्छता को लेकर सरकार के अभियान का असर दिखाई दे रहा है अब भीख मांगकर गुजारा करने वाले लोग भी शौचालय को जरूरी मानने लगे हैं बिहार के बेगूसराय के रामविलास इसका एक उदाहरण है रामविलास जन्म से ही नेत्रहीन है उनकी पत्नी पैरों से दिव्यांग है वह भीख के पैसों से घर में शौचालय बनवाने में जुटे हैं

ट्रेन में भीख मांगते समय सुनी शौचालयों की बात

रामविलास कहते हैं कि हम ट्रेन में डफली बजा कर गीत गाकर भीख मांगते हैं जब की पत्नी घर के पास बैठती है वह कहते हैं कि ट्रेन में लोगों के बीच शौचालय बनवाने की बात होती रहती है उन बातों को सुना तो अच्छा लगा गांव के डीलर के यहां राशन लेने गए तो उसने भी कहा कि घर में शौचालय नहीं होगा तो राशन बंद हो जाएगा दिव्यांगता के कारण अपनी परेशानी थी इन कारणों से लगा कि घर में शौचालय होना चाहिए तब उन्होंने शौचालय बनवाने का निर्णय लिया|

Facebook Comments