हाथियों ने की एक मासूम की हत्या..

वन परिक्षेत्र में जंगली हाथियों का आतंक कम होने का नाम नहीं ले रहा है. एक बार फिर जंगली हाथियों के हमले में एक ग्रमीण की मौत हो गई है.  सोमवार की रात  8 बजे के आस-पास  हाथियों ने बूढ़ीकानि गांव के उमेश मुंडा पर हमला कर दिया. इस हमले में 44 वर्षीय उमेश मुंडा की मौत हो गई. बूढ़ीकानि गांव बिश्रा वन क्षेत्र अंतर्गत जराईकेला पंचायत में आता है.

बताया जाता है कि हाथियों ने उस वक्त उमेश पर हमला किया जब वो बाजार से सब्जी खरीद कर लौट रहे थे. इस दौरान सड़क किनारे छुपे हाथियों ने उमेश के आते ही अचानक हमला कर दिया. हाथियों के हमले से ग्रमीण की मौत की सूचना मिलने पर पुलिस और वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची. पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है.

उमेश मुंडा की मौत के बाद ग्रामीणों में भी खासी नाराजगी है. नाराज ग्रामीण प्रशासन से ये मांग कर रहे हैं कि  जराईकेला क्षेत्र मे वन विभाग कर्मियों का अस्थायी कैंप लगाया जाए और हाथियों को भगाने का प्रबंध किया जाए. क्योंकि हाथियों के हमले में अब कई ग्रामीणों को अपनी जान गवानी पड़ी है.

Facebook Comments