बेंगलूर व मुंबई से चल रहा है गैंग,देख परख कर ही अक्सैप्ट करें फेसबुक फ्रैंड रिक्वैस्ट

खास तौर पर अमरीका व इंगलैंड देश की वासी बताकर पहले नकली फेसबुक अकाऊंट इस गैंग की लड़कियां खोलती हैं। विदेशी भाषा में ही बात करने वाली ये लड़कियां पहले खूबसूरत तस्वीर लगाकर अपनी फ्रैंड रिक्वेस्ट भेजती हैं। धीरे-धीरे मैसेंजर के जरिए चैटिंग का दौर शुरू होता है। इसके बाद भारत देश के बारे में पूछा जाता है और फिर भारत घूमने की इच्छा जताई जाती है। यहां तक कि भारत में बड़ी इन्वैस्टमैंट करने का झांसा तक दिया जाता है और कई बार तो यहां के लोगों को विदेशों से वीजा तक भेजने का लालच दिया जाता है।

अगर आपके फेसबुक पर कोई विदेशी महिला फ्रैंड है तो सावधान हो जाएं। आप किसी भी तरह की ठगी के शिकार हो सकते हैं। फेसबुक के जरिए एक बहुत बड़ा ठग गैंग देश भर में सक्रिय होकर रोजाना कई लोगों को अपने जाल में फंसा रहा है।

यह गैंग बेहद सुनियोजित ढंग से लोगों को अपने झांसे में लेता है और फिर कई तरह की चालें चल व डरा-धमका कर उनसे लाखों रुपए ठग लेता है। देश भर के साइबर क्राइम सैल के पास लगातार ऐसी शिकायतें पहुंच रही हैं। इस गैंग के बारे कई पुख्ता सबूत साइबर क्राइम सैल के पास पहुंच चुके हैं और जल्द ही इस विदेशी व देशी गैंग का बड़ा खुलासा हो सकता है।

खास तौर पर अमरीका व इंगलैंड देश की वासी बताकर पहले नकली फेसबुक अकाऊंट इस गैंग की लड़कियां खोलती हैं। विदेशी भाषा में ही बात करने वाली ये लड़कियां पहले खूबसूरत तस्वीर लगाकर अपनी फ्रैंड रिक्वेस्ट भेजती हैं। धीरे-धीरे मैसेंजर के जरिए चैटिंग का दौर शुरू होता है। इसके बाद भारत देश के बारे में पूछा जाता है और फिर भारत घूमने की इच्छा जताई जाती है। यहां तक कि भारत में बड़ी इन्वैस्टमैंट करने का झांसा तक दिया जाता है और कई बार तो यहां के लोगों को विदेशों से वीजा तक भेजने का लालच दिया जाता है।

जब फेसबुक के जरिए वह किसी भी व्यक्ति को पूरी तरह से अपने जाल में फंसा लेते हैं तो फिर शुरू होती है उनकी अगली चाल। अगली चाल के जरिए मैसेंजर के जरिए यह मैसेज भेजा जाता है कि वह अमूक दिन भारत पहुंचने वाली है और वह उनके रहने व खाने का प्रबंध कर दे और इसके बदले में मोटी रकम चुकाई जाएगी। इसके बाद मुंबई एयरपोर्ट पर चैक इन करने की फोन के जरिए सूचना दी जाती है।

कुछ ही देर बाद इस फेसबुक विदेशी दोस्त की एक एजैंट फोन पर यह कहती है कि कुछ कस्टम कारणों से आपकी दोस्त को रोका गया है और इसके लिए उन्हें कस्टम के रूप में कुछ रुपए क्लीयर करने होंगे। यह पूछे जाने पर कि क्या उनके पास पैसे या क्रैडिट व डैबिट कार्ड नहीं हैं तो कहा जाता है कि उनके पैसे एयरपोर्ट पर चोरी हो गए हैं और कार्ड खुल नहीं रहा है। कुछ ही देर में 60 हजार रुपए से लेकर 1 लाख रुपए अकाऊंट में डालने की बात कही जाती है। कुछ लोग तो झांसे में आकर पैसे अकाऊंट में डाल देते हैं और जो पैसे नहीं डालते उन्हें फिर धमकाया जाता है। कई तरह की धमकियां दी जाती और यहां तक कहा जाता है कि अगर उनकी विदेशी लड़की को आपके देश में कुछ हो गया तो इसके जिम्मेदार आप होंगे। इस धमकी के बाद भी कुछ लोग इनके झांसे में आ जाते हैं और अकाऊंट में रुपए डाल देते हैं।

बेंगलूर व मुंबई से चल रहा है गैंग
जालंधर : साइबर क्राइम को मिले प्रारंभिक साक्ष्यों के मुताबिक इस गैंग के तार बेंगलूर व मुंबई से जुड़े हुए हैं। यह विदेशी लड़कियों को आगे कर ग्राहक को फंसाते हैं और फिर डरा-धमकाकर और कई तरह के प्रलोभन देकर उन्हें  ठगते हैं।

देख परख कर ही अक्सैप्ट करें फेसबुक फ्रैंड रिक्वैस्ट : डी.जी.पी.
डी.जी.पी. सुरेश अरोड़ा का कहना है कि प्रदेश के साइबर क्राइम सैल के पास भी ऐसी कई शिकायतें आ चुकी हैं। वह कहते हैं कि देख-परख कर ही कोई व्यक्ति विदेशों से आने वाली फेसबुक फ्रैंड रिक्वैस्ट को अक्सैप्ट करें। किसी भी तरह के किसी के झांसे में न आएं और न ही किसी तरह की चैटिंग में फंसे। वह कहते हैं कि इस तरह की धोखाधड़ी व ठगी की लगातार पड़ताल की जा रही है।

Facebook Comments